बडा़ फैसला: रक्षा संपदा विभाग कार्यालय देहरादून और उप कार्यालय रानीखेत में खुलेगा,छावनियों के लोगों को बरेली जाने से मिलेगी निजात

ख़बर शेयर करें -

रानीखेतः रक्षा मंत्रालय भारत सरकार ने उत्तराखंड के देहरादून में रक्षा सम्पदा कार्यालय कार्यालय और रानीखेत छावनी में उप कार्यालय खोलने का ऐलान किया है।इस फैसले के बाद उत्तराखंड की छावनियों के रहवासियों को रक्षा संपदा संबंधी कार्यों के लिए रक्षा संपदा कार्यालय बरेली जाने से निजात मिलेगी।
ज्ञातव्य है छावनीपरिषदों का अधिकांश कार्य रक्षा सम्पदा से संबंधित होता है छावनी परिषदों के अंतर्गत भूमि-वन संबंधी मामले रक्षा संपदा से जुड़े होते हैं।वर्तमान में ये सभी कार्य रक्षा संपदा बरेली से संचालित होते है,इसलिए उत्तराखंड की छावनी परिषदों के रह वासियों को अपने कार्य हेतु बरेली दौड़ना पड़ता था।इधर ये सभी काम जैसे दाखिल ख़ारिज, भवनों का मानचित्र पास कराना देहरादून और उप कार्यालय रानीखेत से ही हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें 👉  केपीएस हिमालयन पब्लिक स्कूल में मनमोहक कार्यक्रम के साथ मनायी गई आजादी की ७५वीं वर्षगांठ, प्रभातफेरी भी निकली

इसके अलावा छावनियों में सेना द्वारा आएदिन रास्तों की बाड़बंदी से भी निजात मिलने की उम्मीद जगी है ।बंद खुलने से रक्षा सम्पदा सम्बन्धी कई काम जिसमे जैसे कई काम आसानी से हो जायेंगे। लोअर मॉल रोड की सड़क को जालली मोटर मार्ग में लिंक करने की भी संभावना बलवती हुई है जिसके लिए रक्षा सम्पदा विभाग से अभी तक अनुमति नहीं मिलने से मामला ठन्डे बस्ते में पड़ा है।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत पीजी कालेज में रंगारंग कार्यक्रम के साथ मनायी गई आजादी की ७५वीं वर्षगांठ, प्रभातफेरी भी निकाली

रक्षा मंत्रालय के रानीखेत में रक्षा संपदा उप कार्यालय खोलने की घोषणा का स्थानीय रहवासियों स्वागत करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह तथा रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट का आभार व्यक्त किया है। आभार प्रकट करने वालों में महिला आयोग उपाध्यक्ष श्रीमती ज्योति साह मिश्रा ,छावनी परिषद् के नामित सदस्य मोहन नेगी, , व्यापारी नेता मनोज अग्रवाल, मनीष चौधरी, राजेंद्र जसवाल, भुवन पपनै, उमेश पाठक, संजय पंत, हर्षवर्धन पंत, सभासद नवल पांडेय, विनोद कुमार, चन्दन भगत, विनोद भार्गव आदि शामिल है।

यह भी पढ़ें 👉  अब कला प्रेमियों की व्यग्र प्रतीक्षा होगी खत्म,एक सदी पुरानी खड़ी बाजार की श्री रामलीला का मंचन इस बार‌ पुनर्आरंभ कराने का निर्णय

Leave a Reply

Your email address will not be published.