राशन कार्ड धारकों के लिए खुशखबरी, केंद्र सरकार ने मुफ्त राशन योजना तीन माह और बढ़ाई

ख़बर शेयर करें -

केंद्र सरकार ने बुधवार को गरीबों को मुफ्त अनाज देने की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना की अवधि तीन माह यानी दिसंबर, 2022 तक और बढ़ा दी है. इसपर 44,700 करोड़ रुपये की लागत आएगी. माना जा रहा है कि महंगाई से गरीबों को राहत देने के अलावा गुजरात विधानसभा चुनाव को देखते हुए यह निर्णय किया गया है।

मुफ्त अनाज योजना के तहत 80 करोड़ लोगों को फ्री में अनाज दिया जाता है. इससे पहले खाद्य मंत्रालय ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा था जिसमें इस योजना को 3 महीने का विस्तार किए जाने की बात कही गई थी, केंद्र सरकार की योजना के तहत अब फिर से सफेद और गुलाबी कार्ड धारकों को मुफ्त में राशन मिलेगा।

यह भी पढ़ें 👉  टनल‌ में फंसे श्रमिकों ने जीती जिंदगी की जंग, बाहर निकाले गए, सीएम धामी ने की मुलाकात, देखें‌ वीडियो

बुधवार को केंद्र सरकार की मोदी मंत्रिमंडल में यह फिर से फैसला लिया गया है कियोजना के तहत 80 करोड़ गरीबों को पांच किलो गेहूं और चावल हर महीने दिया जाता है। यह योजना शुक्रवार 30 सितंबर को समाप्त हो रही थी। इसे तीन महीने यानी अक्टूबर से दिसंबर, 2022 तक के लिये बढ़ाया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  अच्छी खबर- 17वें दिन मिली सफलता, सिलक्यारा टनल‌ में ड्रिल का कार्य पूरा,आज निकाले जाएंगे‌ 41मजदूर

आधिकारिक बयान के अनुसार, ‘‘ऐसे समय में जब दुनिया कोविड महामारी और अन्य कारणों से उत्पन्न विभिन्न समस्याओं से जूझ रही है, भारत ने आम लोगों के लिये चीजें सुलभ रखने को लेकर आवश्यक कदम उठाते हुए कमजोर वर्गों के लिये खाद्य सुरक्षा को सफलतापूर्वक बनाए रखा है।’’

इसमें कहा गया है, ‘‘महामारी के दौरान लोगों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। इसको देखते हुए सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई) तीन महीने के लिये बढ़ाने का फैसला किया है ताकि गरीब और समाज के वंचित तबके को त्योहारों के दौरान मदद मिले और कोई समस्या नहीं हो।

यह भी पढ़ें 👉  राजकीय जूनियर हाई स्कूल पौड़ा कोठार की शिक्षिका यशोदा काण्डपाल देवभूमि शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार से हुई सम्मानित

सरकार ने पीएमजीकेएवाई के अप्रैल, 2020 में शुरू होने के बाद अबतक इसपर 3.45 लाख करोड़ रुपये खर्च किये हैं। उन्होंने कहा कि योजना को तीन महीने के लिये बढ़ाये जाने से अतिरिक्त 44,762 करोड़ रुपये खर्च होने से इस पर कुल व्यय लगभग 3.91 लाख करोड़ रुपये हो जाएगा।