कदली वृक्ष यात्रा के साथ रानीखेत में 133वें नंदादेवी महोत्सव का शुभारंभ,आठ दिवसीय महोत्सव के दौरान होंगे विभिन्न कार्यक्रम

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत:- कदली वृक्ष आमंत्रण के साथ पर्यटक नगरी रानीखेत में आठ दिवसीय 133वाॅ नन्दादेवी महोत्सव शुरु हो गया। नन्दादेवी समिति के तत्वाधान में आज रायस्टेट स्थित माधव कुंज से कदली वृक्ष को पूजा पाठ सम्पन्न कराकर माता के जयकारों के साथ नगर भ्रमण उपरांत नंदा देवी मंदिर परिसर में लाया गया।

आज सुबह माॅ नंदा सुनंदा की मूर्ति निर्माण हेतु कदली वृक्ष लाने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु रायस्टेट स्थित माधव कुंज पहुंचे जहां कदली वृक्षों के छांव तले‌ पं विपिन‌ चंद्र पंत ने पूजा विधान‌ सम्पन्न कराए,पूजा में यजमान श्री लक्ष्मण सिंह बिष्ट एवं श्रीमती अनामिका बिष्ट शामिल हुए। महिलाओं ने कीर्तन भजन से माहौल को भक्तिमय बना दिया।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत नगर के सौंदर्यीकरण के लिए व्यापार मंडल‌ चयनित स्थानों पर सेल्फी पॉइंट बनाएगा, छावनी परिषद सीईओ से मांगी अनापत्ति

माधव कुंज निवासी विमल भट्ट के आवास परिसर से कदली वृक्षों को पूर्ण श्रद्धा भाव और जयकारों के साथ नगर के द्यूलीखेत,रोडवेज, सदर बाजार, गाॅधी चौक, केएमओ स्टेशन, शिव मंदिर मार्ग आदि स्थानों से होते नन्दादेवी मंदिर परिसर मे लाया गया। कदली यात्रा में नगर के विभिन्न संगठनों सहित श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया। जिनमें क्षेत्र प्रमुख ताड़ीखेत हीरा सिंह रावत,नंदाष्टमी महोत्सव समिति अध्यक्ष हरीश लाल साह, विमल सती , राजा लक्ष्मण सिंह बिष्ट रानी अनामिका बिष्ट, छावनी परिषद नामित सदस्य मोहन नेगी, मनीष चौधरी, दीपक पंत, विनीत चौरसिया, भास्कर बिष्ट,मोहन बिष्ट, भुवन सती,अगस्त साह, मुकेश साह, उमेश उपाध्याय , रामेश्वर गोयल, सुबोध साह, यतीश‌ रौतेला,पंकज साह, कुलदीप कुमार,दीपक बिनवाल,भुवन साह, किरन लाल साह, प्रमोद कांडपाल, अनिल वर्मा, गिरीश भगत, अजय कुमार बबली,सतीश चंद्र पांडेय,राजेन्द्र पंत, संजय पंत, मोहन चंद्र जोशी, निखिल कुमार,एस एस‌ राणा,ललित नेगी,सोनू सिद्दीकी, कमल कुमार, सहित अनेक लोग मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  बीर शिवा स्कूल चौखुटिया में पुलिस ने विद्यार्थियों को किया साइबर क्राइम के प्रति जागरूक

नंदाष्टमी महोत्सव समिति अध्यक्ष हरीश लाल साह ने बताया ने कि आज‌ से 22 सितंबर तक मूर्ति निर्माण,23 सितम्बर को ब्रहम मुहूर्त में मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा उपरांत परम्परागत धार्मिक कर्मकांड आयोजित किए जायेंगे तथा इस दौरान श्रद्धालुओं द्वारा माता के दर्शन किए जा सकेंगे।वहीं 27 सितम्बर को कार्यक्रम का समापन माता की शोभा यात्रा व मूर्ति विसर्जन के साथ सम्पन्न होगा।

यह भी पढ़ें 👉  कविवर सुमित्रानंदन पंत की 124वीं जयंती उनके पैतृक गांव में समारोह पूर्वक मनाई गई, काव्य गोष्ठी आयोजित, साहित्यकार हुए सम्मानित