आखिरकार पिंजरे में कैद हुआ सिंगोली क्षेत्र में आतंक का पर्याय बना गुलदार, ग्रामीणों ने ली राहत की सांस

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत-ताडी़खेत विकास खंड ‌अंतर्गत सिंगोली गांव क्षेत्र में आतंक का पर्याय बना गुलदार आखिरकार वन विभाग द्वारा लगाए गए पिंजरे में कैद हो गया।

बता दें कि पूर्व में गुलदार एक पूर्व सैनिक और एक बुजुर्ग महिला कमला देवी पर हमलाकर उन्हें बुरी तरह घायल कर चुका था। ग्रामीणों की मांग पर वन विभाग ने पहले यहां सर्वे करने के बाद कैमरा ट्रैप लगाए और बाद में पिंजरा लगाया गया जिसमें हर रोज गुलदार के हमले में घायल हो चुकी महिला के पुत्र पंकज सिंह पवार द्वारा कुत्ता रखा जाता रहा।गत रात्रि कुत्ते को शिकार बनाने के लिए आया गुलदार पिंजरे में कैद हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  भिकियासैण उप जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन,एक सप्ताह में पेयजलापूर्ति सुचारू न होने पर तहसील मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन की‌ चेतावनी

आज रविवार प्रातः वन क्षेत्राधिकारी तापस मिश्रा के नेतृत्व में आई वन विभाग की टीम ने ग्रामीणों की सहायता से कैद गुलदार के पिंजरे को अपने साथ ले गई। वन‌विभाग ने पंकज सिंह पवार को स्वतंत्रता दिवस पर सम्मानित करने की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें 👉  जी.जी.आई.सी. द्वाराहाट में किया गया पी. टी.ए. एवं एस.एम. सी. का गठन