सेना की‌ लड़ाकू वर्दी अब न‌ सिविलियन शौक से पहनें और न ही दुकानदार बेचे, भारतीय सेना ने‌ दी हिदायत, चलाया जागरूकता अभियान

ख़बर शेयर करें -

भारतीय सेना ने डिजिटल पैटर्न कॉम्बैट ड्रेस के संबंध में 25 से 27 सितंबर, 2022 के बीच देहरादून के गढ़ी, डकरा बाजार और पलटन बाजार क्षेत्रों और उत्तराखंड के जोशीमठ में जागरूकता अभियान चलाया।

यह भी पढ़ें 👉  केआरसी सेंटर आफिस में 21जून को आयोजित होगा भूतपूर्व सैनिक मेला, सभी भूतपूर्व सैनिकों से मेले में शिरकत कर अपनी समस्याएं बताने की अपील

सेना द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार डिजिटल पैटर्न कॉम्बैट ड्रेस केवल सेवा कर्मियों के लिए अधिकृत है। सेवारत संवर्ग से बाहर के किसी व्यक्ति द्वारा ऐसी वर्दी पहनना अनधिकृत है।

यह भी पढ़ें 👉  केआरसी सेंटर आफिस में 21जून को आयोजित होगा भूतपूर्व सैनिक मेला, सभी भूतपूर्व सैनिकों से मेले में शिरकत कर अपनी समस्याएं बताने की अपील

भारतीय सेना के जवानों और स्थानीय पुलिस सहित टीम ने दुकानदारों से अनधिकृत व्यक्तियों को किसी भी पैटर्न की लड़ाकू वर्दी नहीं बेचने का आह्वान किया।

यह भी पढ़ें 👉  केआरसी सेंटर आफिस में 21जून को आयोजित होगा भूतपूर्व सैनिक मेला, सभी भूतपूर्व सैनिकों से मेले में शिरकत कर अपनी समस्याएं बताने की अपील

टीम ने दुकानों का दौरा किया और मालिकों को वर्दी से संबंधित दिशा-निर्देशों से अवगत कराया।

गौरतलब है कि डिजिटल पैटर्न कॉम्बैट ड्रेस का अनावरण जनवरी, 2022 में किया गया था।