केंद्र की भाजपा सरकार में देश की लोकतांत्रिक संस्थाएं- व्यवस्थाएं खतरे में, पत्रकार वार्ता में बोले कांग्रेस नेता

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: यहां कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पत्रकार वार्ता में कहा कि मौजूदा दौर में देश की लोकतांत्रिक संस्थाएं और व्यवस्थाएं खतरे की जद में हैं, ऐसे वक्त में कांग्रेस लोकतंत्र को बचाने के लिए देशव्यापी मुहिम चलाने हुए है,अगर लोकतांत्रिक संस्थाएं सुरक्षित रहेंगी तभी देश सुरक्षित रहेगा।
यहां कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीसीसी सदस्य कैलाश पांडे, क्षेत्र प्रमुख हीरा रावत,नगर अध्यक्ष उमेश भट्ट, ताड़ीखेत ब्लाक अध्यक्ष गोपाल देव , पूर्व जिलाध्यक्ष महेश आर्य ने यहां एक होटल‌ में आयोजित संयुक्त प्रेस वार्ता में कहा कि मौजूदा वक्त में केंद्र में भाजपा सरकार के रहते देश की लोकतांत्रिक संस्थाएं , व्यवस्थाएं और संविधान खतरे में है। लोकतंत्र पर खतरे का सीधा मतलब में देश खतरे में है ऐसे में कांग्रेस सजग विपक्ष की भूमिका का निर्वहन करते हुए केंद्र की अलोकतांत्रिक कार्यप्रणाली के विरूद्ध देश व्यापी अभियान चलाए हुए,जिसकी सज़ा भी‌ हमारे शीर्ष नेताओं को भुगतनी पड़ रही है। हमारे नेता राहुल गांधी की लोक सभा सदस्यता रद्द करना और उनका आवास खाली‌ करवाना इसी परिप्रेक्ष्य में देखा जा सकता है। कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि केंद्र की मोदी सरकार देश के इने-गिने उद्योग पतियों के हाथों खेल‌ रही है। यही वजह है कि उसने भारतीय जीवन बीमा निगम में जनता का जमा बीस‌ हजार‌ करोड़ रुपए अडानी की कंपनियों में लगा दिए। पहले पंचायतों का पैसा उनके बैंक में रहता था‌ और उन्हें इसका ब्याज मिलता था जिससे जनहित के कार्य होते थे अब पंचायतों का पैसा इंडक्शन बैंक में जमा कराने की व्यवस्था बनाई जा रही जो पंचायतों के हित में नहीं है।
पत्रकार वार्ता में उपर्युक्त नेताओं के अलावा नगर उपाध्यक्ष कुलदीप कुमार, भिकियासैंण प्रभारी हेमन्त मेहरा, कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत रौतेला, मीडिया प्रभारी सोनू सिद्दकी आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  नंदादेवी मंदिर के विंशति: प्राण-प्रतिष्ठा महोत्सव के मौके पर विभिन्न पूजा अनुष्ठानों के साथ‌ विशाल‌ भंडारा, सैकड़ों श्रद्धालुओं ने ग्रहण किया प्रसाद