केंद्रीय विद्यालय पहुंचे पूर्व छात्र ब्रिगेडियर राजुल गुप्ता ने छात्रों को बताए सफलता के सूत्र, कोरोना महामारी के दौरान भारत सरकार की नीति निर्माता समिति में थे शामिल

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत : केंद्रीय विद्यालय रानीखेत में एक कार्यक्रम में पहुंचे ब्रिगेडियर (डाॅ.)राजुल गुप्ता ने कहा कि परिस्थितियां सबके लिए विपरीत हो सकती हैं लेकिन इनका सामना करते हुए कडी़ मेहनत हमें ही करनी होगी तभी सफलता हमारी मुट्ठी में होगी। इस विद्यालय के वर्ष 1984 बैच के पूर्व छात्र ब्रिगेडियर राजुल गुप्ता आज मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किए गए थे जो कोरोना काल मार्च 2020 में स्वास्थ्य मंत्रालय के अधीन देशभर के लिए महामारी के समय नीति निर्माण का कार्य कर चुके हैं।

गौरतलब है कि मौजूदा वक्त में केंद्रीय विद्यालय रानीखेत ‘आजादी का अमृतमहोत्सव’ और ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के कार्यक्रमों का नियमित रूप से आयोजन कर रहा है इस कड़ी में आज विद्यालय के सामाजिक विज्ञान शिक्षक श्री कमलेश सिंह ने आजादी के लिए किए गए संघर्ष को याद किया तथा आजादी के योद्धाओं को श्रद्धा सुमन अर्पित किए।
मुख्य अतिथि ब्रिगेडियर गुप्ता ने प्रार्थना सभा को संबोधित करते हुए बताया कि कक्षा पहली से बारहवीं तक वे इसी केंद्रीय विद्यालय में अध्ययनरत रह चुके हैं। वर्ष 1984 में यहां से विद्यालयी शिक्षा प्राप्त करके उन्होंने एमबीबीएस की डिग्री प्राप्त की और भारतीय सेना में प्रवेश लिया। आगे भी वे अपने अध्ययन को जारी रखते हैं और एम डी एवं पीएचडी की डिग्रियां प्राप्त कर चुके हैं।उन्होंने बताया कि वे सेना से सेवानिवृत्ति के पश्चात विश्व स्वास्थ्य संगठन से जुड़े और जब मार्च 2020 में देश कोरोना महामारी की जकड़ में आ चुका था उस समय देश के स्वास्थ्य मंत्रालय एवं तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री श्री हर्षवर्धन ने उन्हें कोरोना महामारी के
दौरान इस हेतु देश की नीति निर्माण हेतु आमंत्रित किया और आपने इस संक्रमण काल में देश के लिए अभूतपूर्व योगदान दिया।

यह भी पढ़ें 👉  पीजी कालेज रानीखेत में आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत कई प्रतियोगिताओं के साथ हुआ वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की वीरता पर‌ नाट्य मंचन

प्रातः कालीन प्रार्थना सभा में विद्याथिर्यों को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि ने कहा कि परिस्थितियां सबके लिए विपरीत हो सकती हैंलेकिन इनका सामना करते हुए कडी़ मेहनत हमें ही करनी है। अपनी बात को आगे बढाते हुए उन्होंने कहा कि हर बच्चा आईआईटी में चयनित नहीं हो सकता और हर बच्चा कक्षा में प्रथम नहीं आ सकता जबकि हर बच्चा मेहनत जरूर कर सकता है।
अपने पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने अंग्रेजी शिक्षिका सुश्री विमला पांडे मैम के योगदान को याद
किया तथा छात्र के जीवन में शिक्षकों के योगदान को अत्यंत महत्वपूर्ण बताया ।
प्राचार्य श्री सुनील कुमार जोशी ,उप प्राचार्य श्री प्रवीण शर्मा वरिष्ठ शिक्षक गण एवं पूरे विद्यालय
परिवार ने पूर्व छात्र एवं ब्रिगेडियर राजुल गुप्ता का स्वागत किया एवं उनके द्वारा देश को दिए गए
योगदान पर गौरवान्वित महसूस किया।

यह भी पढ़ें 👉  भूतपूर्व सैनिकों ने जैनोली तक निकाली तिरंगा रैली, स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाने का‌ निर्णय

Leave a Reply

Your email address will not be published.