बागनाथ की पौराणिक नगरी में उत्तरायणी मेला शुरू,भव्य सांस्कृतिक शोभायात्रा ने शहर में बिखेरे विविध संस्कृति के रंग

ख़बर शेयर करें -

बागेश्वर: भगवान बागनाथ की पौराणिक नगरी में शनिवार से उत्तराखंड के कुमाऊं का सुप्रसिद्ध उत्तरायणी मेला शुरू हो गया है। शुभारंभ के अवसर पर शहर में भव्य सांस्कृतिक शोभायात्रा निकाली गई। रंगोली पिछौड़ा ओढ़कर महिलाएं कलश यात्रा में शामिल हुईं। शोभायात्रा में कुमाऊं, गढ़वाल की लोक संस्कृति के विविध रंग देखने को मिले। वहीं अन्य प्रदेशों की लोक संस्कृति की छटा भी दिखाई दी। 

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत विकास संघर्ष समिति के सांकेतिक धरने को एक साल होने में पखवाड़ा भर शेष, लेकिन हुक्मरानों की अनदेखी हैरान करने वाली

इस अवसर पर तहसील परिसर से भव्य सांस्कृतिक शोभा यात्रा भी निकाली गई जो तहसील रोड, गोमती पुल, स्टेशन रोड, माल रोड, सरयू पुल, जिला अस्पताल रोड, दुग बाजार होकर मुख्य मेला स्थल नुमाइशखेत पहुंची। सांस्कृतिक शोभा यात्रा में सबसे आगे कुमाऊं रेजीमेंट का बैंडवादक दल चल रहा था।

यह भी पढ़ें 👉  कैंट बोर्ड के दो चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी रिश्वत लेते पकड़े गए, CBI ने उन्हें रंगे हाथ किया गिरफ्तार

शोभा यात्रा में प्रदेश भर से आए लोक कलाकारों के साथ ही स्कूली बच्चों ने लोक संस्कृति का शानदार प्रदर्शन करते हुए संस्कृति के विविध रंगों की अद्भुत छटा बिखेरी ।छोलिया नृतकों का दल भी आकर्षण के केंद्र में रहा। सांस्कृतिक शोभायात्रा को देखने बड़ी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।जिलाधिकारी बागेश्वर अनुराधा पाल ने भी लोगों को शुभकामना देकर मेले के दौरान स्वच्छता बनाए रखने का संदेश दिया। ध्यातव्य है ऐतिहासिक उत्तरायणी मेले का दो वर्ष बाद आयोजन हो रहा है‌ जिसकारण मेलार्थियों में उत्साह और उमंग देखी जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  जे एंड जे सिटी मांटेसरी स्कूल का वार्षिकोत्सव रंगारंग कार्यक्रम के साथ संपन्न, छात्र -छात्राओं ने विभिन्न देशों की संस्कृति मंच पर उतारी