पांडवखोली में महंत बलवंत गिरी जी महाराज की 30वीं पुण्यतिथि पर कल शुक्रवार 22 दिसम्बर‌ को होगा भंडारा, धार्मिक अनुष्ठान के साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे आयोजित

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: महाभारत कालीन सभ्यता को संजोए पांडवों की शरणस्थली ‘पांडवखोली’ में धार्मिक मेला इस बार शुक्रवार 22दिसम्बर को होगा। ऐसे में आस- पास के तमाम गांवों के निवासियों और संस्कृति प्रेमियों में धार्मिक पर्यटन के लिहाज से बेहद उपयुक्त स्वर्गपुरी आश्रम की भीम की खातडी़ में महंत बलवंत गिरी जी महाराज की 30वीं पुण्यतिथि पर आयोजित होने जा रहे आकर्षक मेले व धार्मिक कार्यक्रमों को लेकर खासा उत्साह है।

इधर पथ भ्रमण संघ के सदस्यों की ओर से भी तैयारी पूर्ण कर ली गई है।शक्तिपीठ मां दूनागिरी धाम से करीब सात किमी दूर पौराणिक द्वारिका की सर्वाधिक ऊंची चोटियों में शुमार पांडवखोली की पहाड़ी धार्मिक उत्सव के लिए तैयार हो रही है। गुरूवार 21 दिसम्बर 2023 से यहां धार्मिक कार्यक्रम शुरू हो जाएंगे। शुक्रवार यानी 22 दिसंबर को पांडवखोली स्वर्गपुरी में वर्षों तक तप करने वाले महंत बलवंत गिरी जी महाराज की 30वीं पुण्यतिथि पर नित्य कार्यक्रम,रूद्रीपाठ,हवन,पूर्णाहुति और भंडारा आयोजित होगा। साथ ही पूर्व वर्षों की भांति पांडु पुत्रों की विशेष पूजा अर्चना भी की जाएगी। इसके लिए दुर्लभ पाषाण प्रतिमाओं को रंगरोगन से संवारा जा रहा है।इस दौरान पर्यटको को इस इलाके में आकर्षित करने के उद्देश्य से राॅक क्लाइंबिग आदि साहसिक कार्यक्रम तथा तमाम खेल प्रतियोगिताएं भी होंगी।

यह भी पढ़ें 👉  भाजपा विधायक डॉ प्रमोद नैनवाल ने रानीखेत नगर में जन मिलन कर भाजपा प्रत्याशी के लिए मांगे वोट

पथ भ्रमण संघ रानीखेत अध्यक्ष हरीश लाल साह ने बताया कि तैयारी पूर्ण कर ली गई है। ऐतिहासिक मैदान के साथ ही हिमदर्शन तथा योगाभ्यास को बने हवाई टॉवर को आकर्षक ढंग से सजाया गया है।उन्होंने बताया कि मेले में नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनिंग से प्रशिक्षित इमरान जाफरी द्वारा रॉक क्लाइंबिंग सहित साहसिक खेलों का प्रदर्शन,संस्कृति विभाग एवं स्थानीय स्कूली बच्चों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति, अलग -अलग उम्र के लोगों के लिए मनोरंजक खेल स्पर्धाएं,दिलचस्प व एंटिक वस्तुओं की प्रदर्शनी खास आकर्षण रहेंगी। प्रतियोगिताओं में प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया जाएगा।रात्रि विश्राम की मंशा से आने वालों के लिए साथ में कम्बल आदि लाना आवश्यक है। स्वर्गपुरी पांडवखोली में शराब लाना व पीना पूर्णरुप से वर्जित है।

यह भी पढ़ें 👉  जी डी बिरला मैमोरियल स्कूल रानीखेत में एक बार फिर गूंजा राम का नाम , श्रद्धा व प्रेम से मनाया गया राम नवमी का पर्व और जी॰ डी॰ बिरला जयंती