एक से बढ़कर एक प्रतिभाओं के दर्शन करा गया ‘रानीखेत कला उत्सव 2022’

ख़बर शेयर करें -

सी एम पपनैं

रानीखेत। उत्तराखण्ड के सु-प्रसिद्ध पर्यटन स्थल, रानीखेत के मिशन इंटर कॉलेज परिसर मे,
‘रानीखेत सांस्कृतिक समिति’ द्वारा आयोजित तीन दिवसीय ‘कला उत्सव रानीखेत 2022’, 13 से 15 जून, प्रभावशाली छाप छोड़कर सम्पन्न हुआ। आयोजित इस तीन दिवसीय कला उत्सव के साथ-साथ, ‘स्व.नाथूराम उप्रेती स्मृति कला वीथिका'(आर्ट गैलरी एवं हस्तकला प्रदर्शनी) का भी आयोजन किया गया। उदघाटन 13 जून, उत्तराखंड की पारंपरिक विधि-विधान के साथ, प्रसिद्ध वैज्ञानिक एन सी तिवारी द्वारा, विशिष्ट अतिथि डाॅ विपिन चंद्र शाह व मिशन इंटर कालेज रानीखेत प्रधानाचार्य, सुनील मसीह की अध्यक्षता मे किया गया।

तीन दिवसीय कला उत्सव के इस अवसर पर प्रदर्शित प्रदर्शनी, ‘स्व.नाथू राम उप्रेती स्मृति कला वीथिका’ में, रानीखेत सहित दूरदराज के गांवो मे निवासरत विभिन्न विधाओ में प्रवीण शिल्पियों द्वारा, अपनी कला का प्रभावशाली प्रदर्शन किया गया। उक्त कलाकारों द्वारा बडे जतन से निर्मित चित्रकला, लकड़ी, बगट, वेस्ट पेपर व विभिन्न प्रकार के उत्पादों को प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया गया था, जिन्हे आगन्तुक दर्शकों द्वारा न सिर्फ सराहा गया, बल्कि बडी मात्रा मे निर्मित उत्पादों की खरीद-फरोख्त भी की गई।

ग्राम सूरे (द्वाराहाट) के काष्ट कला कलाकार, राधेश्याम द्वारा निर्मित पारंपरिक काष्ट कला पर किया गया कार्य। उर्मिला मेहरा (टूनाकोट) द्वारा निर्मित हैण्डी क्राफ्ट कार्य। मंजू शाह द्वारा चीड़ पीरूल पर निर्मित उत्पाद। रविंद्र कुमार गौरी व गायत्री गौरी द्वारा वेस्ट पेपर पर निर्मित सुंदर व आकर्षक, सजावटी सामान। उत्तराखण्ड सरकार द्वारा शिल्परत्न सम्मान से नवाजे गए भुवन चंद्र साह द्वारा बगट पर निर्मित कला कृतियां तथा हिल क्राफ्ट की चयनिका शाह बिष्ट टीम द्वारा निर्मित, आर्टीफिशियल जेवर, हैंड मैड पेपर, ऐपण कला इत्यादि को आगंतुक दर्शकों द्वारा सुंदर, टिकाऊ व रोजगार परक होने के कारण बेहद सराहा गया व उनकी खरीदारी की गई।

यह भी पढ़ें 👉  अब कला प्रेमियों की व्यग्र प्रतीक्षा होगी खत्म,एक सदी पुरानी खड़ी बाजार की श्री रामलीला का मंचन इस बार‌ पुनर्आरंभ कराने का निर्णय

चित्रकला मे प्रवीण अन्य कलाकारों में साक्षी आर्या, ज्योति पांडे, शचिता पंत, रस्मि पवार, अदिति रस्तोगी, महिका फर्तयाल, स्वाति पपनैं, अजय कुमार, नीलम पाण्डेय, माविया हसन, अनन्या अग्रवाल तथा अंजलि द्वारा निर्मित चित्रकला को भी दर्शकों द्वारा काफी सराहा गया। प्रभावशाली व आकर्षक पेंटिग खरीदी गई।

‘कला उत्सव रानीखेत 2022’ प्रदर्शित प्रदर्शनी में, आयोजकों द्वारा अधिकतर उन उत्साही कला शिल्पियों को आमन्त्रित किया गया था, जो अपनी कला से सुंदर, आकर्षक व टिकाऊ उत्पादों का अपने स्वयं के प्रयासों से, उक्त कला को रोजगार परक बनाऐ हुए हैं। उक्त रोजगार परक कला का अभी तक बडी़ संख्या में युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें, आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ा चुके हैं।

आयोजित ‘कला उत्सव 2022’ में, तीनों दिन, विभिन्न आयु वर्गो के लिए, चित्रकला, पारम्परिक वेशभूषा, नए कलमकारों के लिए काव्य गोष्ठी, अंतरविद्यालयी भाषण प्रतियोगिता के अंतर्गत, ‘हमारे जीवन में आजादी के नायकों का स्थान’ विषय पर भाषण। ‘चीड़ वृक्ष पर्यावरण के लिए लाभदायक हैं, ‘ विषय पर वाद-विवाद प्रतियोगिता। युगल लोकनृत्य तथा ऐपण प्रतियोगिता का भव्य आयोजन किया गया। प्रत्येक प्रतियोगिता मे बडी संख्या में प्रतिभागियों द्वारा प्रतिभाग किया गया। दूरदराज के ग्रामीण स्कूल के विद्यार्थियों व महिलाओं द्वारा भी, प्रत्येक प्रतियोगिता में बडी संख्या में प्रतिभाग कर, अपने छिपे हुए हुनर का प्रभावशाली प्रदर्शन किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  छावनी विद्यालयों में धूमधाम से मना आजादी का जश्न, देशभक्ति व लोक संस्कृति आधारित प्रस्तुतियों ने मन मोहा

प्रतियोगिता मे प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियो को ‘रानीखेत सांस्कृतिक समिति’ द्वारा, 15 जून, समापन समारोह के अवसर पर, मुख्य व विशिष्ट अतिथियों क्रमशः, वैज्ञानिक एन सी तिवारी, कुमांऊ विश्वविद्यालय अल्मोडा़ इतिहास विभागाध्यक्ष डाॅ अनिल जोशी तथा समापन समारोह अध्यक्ष पूर्व कैंटबोर्ड उपाध्यक्ष मोहन नेगी के कर कमलों, प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिह्न प्रदान कर, पुरस्कृत किया गया। उक्त सभी अतिथियों द्वारा, प्रतिभागियो व दर्शकदीर्घा मे बैठे, दर्शकों को संबोधित किया गया।

‘आजादी के नायकों का हमारे जीवन में स्थान’, भाषण प्रतियोगिता में नेशनल इंटर कालेज की सुमन रावत प्रथम, कमल गोस्वामी राजकीय इंटर कालेज कुनलाखेत द्वितीय तथा जी डी बिडला कालेज चिलियानोला के शुभ पाठक ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। ‘चीड़ वृक्ष पर्यावरण के लिए लाभदायक हैं, ‘ विषय पर वाद-विवाद प्रतियोगिता में, क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर, केन्द्रीय विद्यालय की प्रेरणा मेहरा व स्नेहा शर्मा तथा नेशनल इंटर कालेज की ज्योति बिष्ट, उक्त शीर्ष स्थान हासिल करने मे सफल हुए।

चित्रकला के विभिन्न आयु वर्ग मे, अंशिका बीयरशिवा स्कूल चिलियानोला, सिद्धार्थ रथ आर्मी पब्लिक स्कूल तथा अनन्या अग्रवाल अशोक हाल रेजिडेंशियल स्कूल मजखाली, प्रथम। पारस जोशी रा.प्रा. पाठशाला नवीन रियुनी, लक्षिता मेहरा गो.सि. मेहरा पब्लिक स्कूल तथा चेतना रावत आर्मी पब्लिक स्कूल द्वितीय तथा कनक रावत, गौरव कोटलिया केन्द्रीय विद्यालय तथा सोरभ जोशी मिशन इंटर कॉलेज, तृतीय स्थान पर रहे।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत पीजी कालेज में रंगारंग कार्यक्रम के साथ मनायी गई आजादी की ७५वीं वर्षगांठ, प्रभातफेरी भी निकाली

पारंपरिक परिधान प्रतियोगिता में, विराज केन्द्रीय विद्यालय प्रथम, सिद्धि पाठक, कनौसा कान्वेन्ट स्कूल द्वितीय तथा जूनियर हाईस्कूल की मीनाक्षी रीना ने तृतीय स्थान हासिल किया। युगल नृत्य में, माउंट सेनाई स्कूल प्रथम, विवेकानंद विद्या मंदिर द्वितीय तथा नेशनल इंटर कालेज तृतीय स्थान पर रहा। ऐपड प्रतियोगिता में नेहा बेलवाल, अंजलि तथा विपासा, क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर जगह बनाने मे कामयाब रहे।

आयोजन समापन समारोह के अवसर पर, आयोजक ‘रानीखेत सांस्कृतिक समिति’ अध्यक्ष विमल सती द्वारा सांस्कृतिक समिति के कार्यो, उपलब्धियों तथा समिति के आगामी कार्यक्रमो के बावत अवगत कराया गया तथा सांस्कृतिक सचिव हरीश लाल साह, सोनू शिद्दकी, विजय पांडे, गौरव भट्ट, दीपक पंत, गौरव तिवारी तथा अशोक पंत के सानिध्य में मुख्य व विशिष्ट अतिथियों के साथ-साथ, निर्णायक मंडल सदस्यों, प्रदर्शनी में भाग लेने वाले सभी कलाकारों व आयोजन को सफल बनाने वाले मुख्य कार्यकर्ताओं को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। तीन दिनों तक चले प्रभावशाली आयोजन का मंच संचालन, दीपक पंत व अशोक पंत द्वारा बखूबी किया गया।
————–
[email protected]
9871757316

Leave a Reply

Your email address will not be published.