भारत की पाक पर विजय स्वर्ण जयंती पर रणबांकुरों के सर्वोच्च बलिदान को किया गया याद

ख़बर शेयर करें -

अल्मोड़ा 16 दिसम्बर: भारत एवं पाकिस्तान के बीच दिसम्बर 1971 में (पूर्वी पाकिस्तान बांग्लादेश) लड़ाई लड़ी गई थी ।भारतीय फौज ने 14 दिनों के भीषण युद्व के दौरान पाकिस्तानी फौज को पराजित किया। इस युद्व के दौरान भारतीय सैनिकों ने अपने अदम्य साहस का प्रदर्शन किया। इस अभियान में वीर सैनिकों ने अपने प्राणों की आहुति दी एवं कई जांबाज  वीरता एवं अदम्य साहस का परिचय देते हुए देश की रक्षा हेतु घायल हुए।
  भारतीय सेना के इस अदम्य साहस एवं वीरता के लिए पूरे देश में 16 दिसम्बर को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। विजय दिवस के 50वीं वर्षगॉठ का आयोजन वैश्विक महामारी कोविड-19 के मददेनजर सीमित संख्या में किया गया। इस अवसर पर आज शहीद स्मारक छावनी क्षेत्र (ईदगाह के समीप) में मुख्य अतिथि विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान, जिलाधिकारी वन्दना सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट, मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे, अपर जिलाधिकारी चन्द्र सिंह मर्तोलिया, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कर्नल योगेन्द्र कुमार(अ0प्रा0), उपाध्यक्ष सैनिक लीग अल्मोड़ा ले0कमाण्डर एस0एस0 सांगा एवं 13 सिख के सैन्य अधिकारी कैप्टन रोहित बिष्ट, भाजपा जिलाध्यक्ष रवि रौतेला ने शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र व श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए 02 मिनट का मौन रखा गया।
  इस अवसर पर  विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ने कहा कि विजय दिवस इसलिए महत्पूर्ण है कि इस दिन देश के सैनिकों ने पाकिस्तान के सैनिकों को आत्मसमर्पण के लिए मजबूर कर दिया। उन्होंने कहा कि जिन रणबांकुरों ने अपनी शहादत दी हमें उनके पदचिन्ह्ों पर चलते हुए देश की सीमाओं की रक्षा के लिए वीर सैनिकों द्वारा दिये गये सर्वोच्च बलिदान को हमेशा याद किया जायेगा। सैनिकों के सम्मान हेतु देहरादून में सैन्यधाम की स्थापना की गयी है जो हमारे लिए गौरव की बात है
   इस अवसर पर भाजपा नगर अध्यक्ष कैलाश गुरूरानी, मंत्री विनीत बिष्ट, जिला सैनिक कल्याण विभाग के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी प्रकाश चन्द्र मासीवाल, सहायक अधिकारी हीरा सिहं महिपाल, पूरन चन्द्र लोहनी, राजकुमार बिष्ट, पूर्व सैनिक लीग के पदाधिकारियों ने प्रतिभाग कर अपने श्रद्वा सुमन अर्पित किये।

यह भी पढ़ें 👉  रमेश की हत्या का २४घंटे में खुलासा, अवैध संबंध के चलते हुई थी हत्या, पत्नी,प्रेमी और एक अन्य गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *