सवर्ण युवती से प्रेम विवाह करने पर ससुराल वालों ने अपहरण के बाद की दलित युवक की हत्या, पोस्टमार्टम में मिले गम्भीर चोटों के निशान

ख़बर शेयर करें -

भिकियासैंण में सवर्ण युवती से प्रेम विवाह करने पर ससुराल वालों ने अपहरण के बाद दलित युवक की हत्या कर दी. घटना से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है. पुलिस ने हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. आज रानीखेत चिकित्सालय में शव का पोस्टमार्टम किया गया जिसमें मृतक के शरीर में चोटों से उसे बेरहमी से मारने की पुष्टि हुई है। इस दौरान भारी पुलिस बल तैनात रहा साथ ही एस एस पी पुलिस,एडीएम व संयुक्त मजिस्ट्रेट भी मौके पर नजर बनाए‌ रहे।

मृतक युवक उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी का नेता था.उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी ने बताया कि दलित से विवाह की सूचना के बाद से सौतेले परिजन उसके पति के जान के दुश्मन बने हुए थे. जिसके कारण इन लोगों ने 27 अगस्त को अल्मोड़ा की जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को अपनी जान माल की सुरक्षा को लेकर प्रार्थना पत्र दिया था. आरोप है कि प्रार्थना पत्र देने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई. गुरुवार को जगदीश के ससुराल वालों ने जगदीश चंद्र को भिकियासैंण में पकड़ लिया था. उसके बाद वह लोग जगदीश चंद्र को एक गाड़ी से अपहरण कर ले गए.

यह भी पढ़ें 👉  जी डी बिरला मैमोरियल स्कूल में धूमधाम से मना दशहरा, भव्य कार्यक्रम के बीच रावण का पुतला जलाया गया

उसके बाद बेरहमी से जगदीश की हत्या कर दी. सूचना पाकर पुलिस और राजस्व की टीम ने देर शाम गाड़ी से जगदीश का लहूलुहान शव बरामद कर लिया. भिकियासैंण की तहसीलदार निशा रानी ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है. आरोपित पकड़ लिए गये हैं.

. पोस्टमार्टम टीम में शामिल डा.दीप प्रकाश पार्की के अनुसार, जगदीश के पूरे शरीर पर 25 से 27 गंभीर बाहरी चोटें मिलीं है। छाती, जबड़े व बाएं हाथ की कलाई व दोनों ऐड़ी की हड्डियां तोड़ डाली गई थीं। सिर पर भी काफी चोट पहुंचाई गई। नाक की हड्डी टूटी हुई थी।

सल्ट के पनुवाधौखन निवासी जगदीश चंद्र पुत्र केश राम और भिकियासैंण निवासी गीता उर्फ गुड्डी ने बीते 21 अगस्त को गैराड़ मंदिर में प्रेम विवाह किया था. शादी से पहले गुड्डी अपने सौतेले पिता जोगा सिंह और सौतेले भाई गोविंद सिंह के साथ रहती थी. एक दलित से शादी करना उसके सौतेले भाई और पिता को रास नहीं आया और आरोप है कि दोनों ने मिलकर जगदीश की हत्या कर दी. जगदीश उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी से 2022 में सल्ट सीट से विधानसभा चुनाव लड़ चुके थे

यह भी पढ़ें 👉  जी डी बिरला मैमोरियल स्कूल में धूमधाम से मना दशहरा, भव्य कार्यक्रम के बीच रावण का पुतला जलाया गया

इधर
मा0 अध्यक्ष, (राज्यमंत्री) उत्तराखण्ड अनुसूचित जाति आयोग मुकेश कुमार कल जनपद के भ्रमण पर आ रहे है। वे‌ कल दिनांक 03 सितम्बर, 2022 को प्रातः 8ः00 बजे जसपुर से प्रस्थान कर 10ः00 बजे ग्राम पनुवाधौखन तहसील सल्ट दलित नेता जगदीश चन्द्र की हत्या के सम्बन्ध में परिवारजनों से भेंट वार्ता  करेंगे।

इस बीच विधि आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष दिनेश तिवारी एडवोकेट ने उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी के दलित नेता जगदीश चंद की निर्मम हत्या की कड़ी निंदा की है . कहा कि औनर किलिंग की घटनाएँ किसी भी सभ्य समाज के लिए कलंक हैं और ऐसी घटनाओं की आधुनिक और सभ्य समाज का सपना देखने वाली ताक़तों को आगे बढ़ कर तीव्र आलोचना करनी चाहिए . कहा कि सामाजिक कार्यकर्ता जगदीश चन्द्र की जिस निर्मम तरीक़े से उसके ससुरालियों द्वारा हत्या की गयी है वह अक्षम्य अपराध है और सामाजिक और क़ानूनी रूप से कठोर दंड का भागीदार है . कहा कि यह और दुखद है कि प्रेम विवाह करने वाले युगल के द्वारा अपने जीवन पर आसन्न ख़तरे की सूचना देने के बाद भी पुलिस ने मामले की गम्भीरता को नहीं समझा और अपनी लापरवाही से ओनर किलिंग की इस वारदात को होने दिया . कहा कि यह स्थापित सामाजिक सिद्धांत है कि अंतर्जातीय विवाह और अंतरधार्मिक सम्बन्धों में ओनर किलिंग की प्रबल संभावना बनी रहती है इस लिए ऐसे मामलों में पीड़ित पक्ष की ओर से दिए जाने वाले प्रार्थना पत्र पर सरकार , पुलिस और प्रशासन को हमेशा अलर्ट मोड पर रहना होता है . उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री से माँग की कि ओनर किलिंग के शिकार जगदीश की पत्नी को तत्काल क़ानूनी , सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा प्रदान की जाय ।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.