सौनी स्थित स्वर्गाश्रम बिनसर महादेव के महंत‌ रामगिरी महाराज हुए ब्रह्म लीन , क्षेत्रीय जनता और भक्त समुदाय में शोक की‌ लहर

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत-सौनी स्थित स्वर्गाश्रम बिनसर महादेव के महंत नागा बाबा 108 श्री रामगिरी जी अस्सी वर्ष की आयु में आज ब्रह्मलीन हो गए, उन्होंने रामनगर के पास बैलपढा़व आश्रम में अंतिम सांस ली।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत मिशन इंटर कॉलेज से एनसीसी कैम्प में प्रतिभाग करने दस कैडेट्स मध्यप्रदेश के अमरकंटक रवाना

महंत रामगिरी जी महाराज स्वर्गाश्रम बिनसर महादेव में पिछले बाइस वर्ष से व्यवस्था देख रहे थे। उनकी देखरेख में प्रतिवर्ष यहां शतचंडी महायज्ञ आयोजन हो रहा था। ध्यातव्य है कि स्वर्गाश्रम बिनसर महादेव की नींव महंत मोहन गिरी महाराज ने रखी थी उनके ब्रह्मलीन होने के बाद बाबा रामगिरी 2001में महंत की पदवी सम्हाली और मंदिर की व्यवस्थाओं का कुशलता पूर्वक संचालन किया। उनके ब्रह्म लीन होने के समाचार मिलने के बाद उनके भक्त समुदाय में शोक की‌ लहर है।

यह भी पढ़ें 👉  क्षेत्रीय आयुर्वेदीय अनुसंधान संस्थान, रानीखेत द्वारा विश्व रक्तदाता दिवस पर किया रक्तदान शिविर का आयोजन साथ ही भविष्य में रक्तदान की शपथ ली

ब्रह्मलीन महंत रामगिरी महाराज 👆