क्या जल्दी होगा नए जिलों का सृजन,पहले सीएम‌ ने दिए संकेत,अब विधानसभा अध्यक्ष ने‌ की वकालत

ख़बर शेयर करें -

एक बार‌ फिर‌ राज्य में नए जिलों के‌ गठन की‌ उम्मीद बलवती हुई है।कुछ दिन पहले‌ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने‌ जिलों के निर्माण को लेकर संकेत दिया‌ था अब विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी ने‌ भी छोटी प्रशासनिक इकाइयों को विकास का पैमाना बताते‌ हुए कोटद्वार सहित‌ अन्य प्रस्तावित जिलों को बनाए जाने‌ की वकालत की है।

यह भी पढ़ें 👉  सांसद‌ अजय टम्टा के एनडीए सरकार में राज्यमंत्री बनने पर भाजपाइयों ने मनाया जश्न, मिष्ठान वितरण व आतिशबाजी की

उल्लेखनीय‌ है कि वर्ष २०११में भाजपा सरकार के रहते तत्कालीन मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने पंद्रह अगस्त के दिन चार नए जिलों की घोषणा की थी जिनमें कोटद्वार, रानीखेत,डीडीहाट, यमुनोत्री शामिल‌थे। इन्हें लेकर‌ निशंक के बाद मुख्यमंत्री बने बी सी‌ खंडूरी ने‌ शासनादेश भी‌ जारी‌ किया था।बाद‌ में‌ कांग्रेस की‌ विजय बहुगुणा सरकार में घोषित चार‌ जिलों को लेकर‌ एक कमेटी बैठा दी गई।

यह भी पढ़ें 👉  तृतीय पं ख्यालीराम सती स्मृति शिक्षक सम्मान समारोह में पांच आदर्श शिक्षक हुए सम्मानित, रानीखेत इंटर कॉलेज में भव्य आयोजन

हाल में सीएम धामी ने ने जिलों के सृजन की दिशा में संकेत‌ दिया था।जिसका स्वागत करते हुए विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी ने जिलों के सृजन की‌ मांग‌ को दोहराया है।ऋतु खंडूरी कोटद्वार से विधायक हैं जो २०११में घोषित जिलों में ‌‌‌‌शामिल है। कोटद्वार से जीतने के बाद‌ अप्रैल में ऋतु खंडूरी कोटद्वार को जिला‌ बनाने की मांग उठा चुकी हैं।एक बार‌ पुनः उन्होंने जिलों की‌ मांग‌ उठाकर जिला मांग रहे क्षेत्रों की हलचल‌ बढा़ दी‌ है।

यह भी पढ़ें 👉  बीरशिवा पब्लिक स्कूल चिलियानौला में नशा मुक्ति जागरूकता अभियान : विद्यार्थियों को दिलाई नशा न करने की शपथ

सुनिए वीडियो