अल्मोडा़ जनपद में अतिवृष्टि से 6 की मौत, डीएम के अधिकारियों को मुख्यालय न छोड़ने के निर्देश ,विधानसभा उपाध्यक्ष मृतकों के परिजनों से मिले,प्रशासन ने सड़कें खोलने को 41 जेसीबी लगायी

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत : जनपद में आफत की बारिश कहर बनकर टूटी है, कई सड़क मार्ग बंद है। नदिया भी उफान पर हैं। अब तक जनपद में 6 लोगों की मौत की आपदा कंट्रोल रूम ने पुष्टि की है। जिलाधिकारी वंदना सिंह ने सभी कर्मचारियों,अधिकारियों को मुख्यालयों पर बने रहने और मोबाइल फोन आॅन रखने के निर्देश दिए हैं।वहीं विधान सभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह ने भी मृतकों के आवास पर जाकर परिजनों को ढांढस बधाया।

बीती रात ग्राम रापड़ तहसील भिकियासैण थाना-भतरौजखान में आनंद सिंह पुत्र मदन सिंह के मकान में भूस्खलन का मलवा आने से मकान टूट गया। आनंद सिंह (62), उनकी पत्नी उषा (55), पोती किरण ( 16) व पोता तनुज (12) मलबे में दब गये। ग्रामीणों ने रात में उषा पत्नी आनंद सिंह को सकुशल मलबे से बाहर निकाला। जबकि पुलिस ने मौके पर ग्रामीणों के साथ रेस्क्यू किया। किरण व तनुज को मृत अवस्था में बाहर निकाला गया है। बाद में आनंद सिंह का भी शव बरामद किया। आनंद सिंह नेगी अमर उजाला में पत्रकार रह चुके थे। अल्मोड़ा नगर हीरा डूंगरी में मकान में मलबा आने से 14 साल की किशोरी की मौत हो गई। उसकी मां घायल हो गई। उसको अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अल्मोड़ा तहसील के चितई मंदिर के पास सिराड़ गांव में आवासीय भवन टूटने लीला देवी(52) पत्नी चंदन सिंह की मौत हो गई। स्याल्दे ब्लॉक के भाकुडा निवासी सरस्वती देवी जंगल में घास लेने गई थी, उसके ऊपर मलबा गिरने से उसकी भी मौत हो गई। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी राकेश जोशी ने 6 मौत की पुष्टि की है। जबकि बागेश्वर के कपकोट के भनार गांव के एक युवक पहाड़ से गिर रहे पत्थरों की चपेट में आ गया जिसकी दर्दनाक मौत हो गई है। भनार गांव निवासी गिरीश चन्द्र सिंह(37) पुत्र गोविन्द सिंह रास्ते में पहाड़ से गिर रहे पत्थरों की चपेट में आ गया जिससे उसकी मौत हो गई है। इधर वर्षा एवं अतिवृष्टि होने से राजकीय एवं निजी संपत्तियों में द्वाराहाट में 1, भिकियासैन में 03 भवन आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त एवं अल्मोड़ा में 1 आवासीय भवन पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हुआ है। जनपद के अवरूद्ध मोटर मार्गाे में 1 राष्ट्रीय मोटर मार्ग, 6 राज्य मोटर मार्ग एवं 13 ग्रामीण मोटर मार्ग अवरुद्ध है। वर्तमान में 41 जेसीबी मशीनें सड़कों को खोलने में तैनात की गयी है।

यह भी पढ़ें 👉  'आजादी का अमृत महोत्सव'के अंतर्गत छावनी इंटर‌ कालेज के‌ विद्यार्थियों ने नुक्कड़ नाटक के जरिए‌ दिया देश प्रेम का संदेश

अतिवृष्टि से अल्मोड़ा के ग्राम सिराड निवासी लीला देवी एवं हीरा डूंगरी निवासी अरोमा सिंह (14 वर्षीय) बालिका के घर मे आये मलुवे के चपेट में आने से मृत्यु होने पर विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चौहान ने मृतकों के आवास में जाकर परिवार को ढांढस बधाया व हर सम्भव मदद करने का आश्वासन दिया। इस दौरान उन्होंने क्षेत्रों के कई स्थानों में मुआयना किया। उन्होंने जिला आपदा अधिकारी व सबंधित अधिकारियों से वार्ता कर अति संवेदनशील स्थानों के बारे जानकारी ली और कहा कि आपदा मानकों के अनुसार मृतकों के परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाय। उन्होंने बताया कि इस अतिवृष्टि से सेराघाट मोटर मार्ग बंद है, कफड़खान-डीनापानी मोटर मोटरमार्ग अवरूद्ध है। वही उन्होंने अतिवृष्टि से हवालबाग के सेज़ में 02 मकान पूर्ण तरह से क्षतिग्रस्त हो गए और इनके परिजनों को अन्य स्थान पर रखा गया है। वहीं उन्होंने सुपई ,चौमू, पांडे खोला अतर मंड़ी फलसीमा, माट, हीरा डूंगरी, धारानौला मोटरमार्ग, चौसार मोहल्ला, खीनाखान में मुख्य पैदल मार्ग मंे मलुवा आने से मार्ग बाधित होने और कई मकानो को अतिवृष्टि से नुकसान का जायजा लिया। इस दौरान मा0 उपाध्यक्ष ने जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी, तहसीलदार, आपदा प्रबंधन अधिकारी से दूरभाष से वार्ता की और प्राभावितों को तत्काल राहत पहुचने के लिए निर्देशित किया।
जनपद में दो दिनों से हो रही भारी वर्षा एवं अतिवृष्टि को देखते हुये जिलाधिकारी वन्दना सिंह ने आज आपदा कन्ट्रोल रूम में जनपद के तहसीलों से प्राप्त हुये जान-माल के नुकसान की जानकारी ली। उन्होंने सभी उपजिलाधिकारियों, तहसीलदारों, आपदा प्रबन्धन विभाग एवं सभी जनपद स्तरीय अधिकारियों/कर्मचारियांे को निर्देश दिये कि वे 24 घण्टे मुख्यालयों मंे बने रहे और किसी भी प्रकार की घटना होने पर राहत एवं बचाव कार्य के लिये तैयार रहे साथ ही उन्होंने सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देश दिये कि वे 24 घण्टे अपना मोबाईल फोन ऑन रखे।
उन्होंने बताया जनपद के सभी तहसीलों राहत व बचाव युद्ध स्तर किया जा रहा है और लोगांे को राहत पहुॅचाने के साथ ही यात्रा के दौरान फसे लोगांे को सुरक्षित स्थानों में लाने-जाने का कार्य भी जिला प्रशासन व पुलिस विभाग द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जनपद के सभी मोटर मार्गों को खोलने का कार्य भी युद्धस्तर पर किया जा रहा है। सड़कांे को खोलने के लिये 41 जेसीबी मशीनों को तैनात किया गया है। उन्होंने सभी जनपद वासियों से अपील की है कि किसी प्रकार की घटना होने पर जिला आपातकालीन परिचालन केन्द्र के दूरभाष नम्बर 05962-237874,237875 एवं कन्टोल रूम के मोबाईल नम्बर 7900433294 पर सम्पर्क कर सकते है।

यह भी पढ़ें 👉  कांग्रेस की 'भारत जोड़ो तिरंगा यात्रा' देश भक्ति गीतों और स्वतंत्रता सेनानियों की गाथा‌ लेकर‌ पहुंची गांव -गांव

Leave a Reply

Your email address will not be published.