किशोरी के शारीरिक शोषण के आरोपी एवी प्रेम नाथ को रानीखेत कोतवाली में मिली‌ कुर्सी,भड़के युवाओं ने किया हंगामा, पुलिस पर लगाए आरोप

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: डांडा कांडा में नाबालिग किशोरी के शारीरिक शोषण के आरोपी दिल्ली प्रशासन में एडीएम एवी प्रेम नाथ को गिरफ्तार कर जैसे ही यहां कोतवाली लाया गया भनक लगते ही राजनैतिक दलों से जुड़े युवा संगठन कोतवाली पहुंच गए। उन्होंने कोतवाली में आरोपी एक वी प्रेम नाथ को कुर्सी पर बैठाए देखा तो युवाओं का गुस्सा भड़क गया और उन्होंने पुलिस पर आरोपी को वीआईपी ट्रीटमेंट देने व केस में लगी धाराओं को‌ कमजोर करने का आरोप लगाते हुए जमकर बवाल काटा।

यह भी पढ़ें 👉  CARE' संस्था द्वारा हिमांशु पाठक व कमल गोस्वामी को 'फोटोग्राफर ऑफ रानीखेत' सम्मान के लिए चुना गया, शीघ्र किया जाएगा सम्मान

किशोरी से छेड़छाड़ के आरोपी एडीएम एवी प्रेमनाथ को आज‌ हल्द्वानी से गिरफ्तार कर रानीखेत कोतवाली लाया गया था ।यह सूचना मिलने पर तमाम युवा कोतवाली में धमक गए और उसपर सख्त कार्रवाई को लेकर नारेबाजी करने लगे जब उन्होंने देखा कि पुलिस ने उन्हें कुर्सी में बैठाया है तो युवाओं का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया।‌‌‌‌युवाओं ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए‌ मौजूद ‌‌‌‌‌‌‌‌पुलि‌स अधिकारी से सवाल किया कि आखिर किसके दबाव में उक्त आरोपी एडीएम को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जा‌रहा है। समाचार भेजने तक हंगामा जारी था। इधर मीडिया से बातचीत में सीओ पुलिस ने आरोपी पर लगी धाराओं से छेड़छाड़ से इन्कार किया, उन्होंने कहा कि नाबालिग के बयान लेने के बाद सुसंगत धाराएं आरोपी पर लगायी गई हैं।

यह भी पढ़ें 👉  स्व. जय दत्त वैला पी जी कालेज में समारोहपूर्वक मनाया गया एनसीसी दिवस, कैडेट्स ने पेश किए देश भक्ति कार्यक्रम

एवी प्रेमनाथ को वीआईपी ट्रीटमेंट का विरोध और सख्त कार्रवाई की मांग करने वालों में अंकिता (पडलिया) पंत (पूर्व अध्यक्ष भतरौंजखान, महाविद्यालय) अंकित रावत (कांग्रेस विधानसभा महासचिव, यूथ), हिमांशु आर्या (उपाध्यक्ष यूथ कांग्रेस, रानीखेत), शुभम साह (भा०ज०यु०मो०, महामंत्री), पूर्व प्रवक्ता अतुल जोशी, ज़िला पंचायत सदस्य देवेंद्र रावत, नगर अध्यक्ष उमेश भट्ट, ब्लॉक अध्यक्ष गोपाल देव, कुलदीप कुमार, विनय तिवारी, हेमन्त अधिकारी, हिमांशु आर्या, जिला पंचायत सदस्य धन सिंह रावत (राज्य आंदोलनकारी), हिमांशु आर्या, संजय ठाकुर, नितिन डैनी आदि ‌‌‌‌शामिल थे।

यह भी पढ़ें 👉  छावनियों की जनता से आपत्ति व सुझाव मांगने के बाद छावनी भूमि प्रशासन नियम में ये हुआ संशोधन,रक्षा मंत्रालय ने अधिसूचना भी जारी की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *