बीजेपी की पार्वती दास ने मामूली अंतर से बागेश्वर सीट बचाई, दो दशकों से इस सीट को जीत रही बीजेपी 2022का अपना प्रदर्शन नहीं दोहरा पाई

ख़बर शेयर करें -

उत्तराखंड की बागेश्वर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी उम्मीदवार पार्वती दास ने कांग्रेस के बसंत कुमार को 2010वोटों से हराया है. कुमाऊं मंडल की इस सीट पर उपचुनाव पांच सितंबर को हुए थे, जिसमें 55.44 फीसदी मतदान हुआ था. दो दशकों से इस विधानसभा सीट पर बीजेपी जीत दर्ज करती आई है हालांकि बीजेपी 2022के प्रदर्शन को दोहरा पाने में असफल रही है।2022विधान सभा चुनाव में बीजेपी के चंदन राम दास ने कांग्रेस के रंजीत दास को करीब 11हजार के अंतर से हराया था।

यह भी पढ़ें 👉  चुनाव ड्यूटी से लौट रहा टीचर सड़क हादसे का शिकार, अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत

बता दें मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी मंत्रिमंडल में परिवहन मंत्री रहे भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक चंदन राम दास का इस साल अप्रैल में बीमारी से निधन हो जाने के कारण इस रिक्त सीट पर उपचुनाव कराया गया. उपचुनाव में कुल पांच प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे थे, लेकिन मुख्य मुकाबला सत्ताधारी दल भाजपा और विपक्षी पार्टी कांग्रेस के बीच था.


बीजेपी ने चंदन राम दास की पत्नी पार्वती दास को चुनाव मैदान में उतारा, जबकि कांग्रेस ने उनके विरूद्ध बसंत कुमार को टिकट दिया. कुमार ने 2022 में पिछला विधानसभा चुनाव आम आदमी पार्टी (आप) के टिकट पर लड़ा था और उपचुनाव से ऐन पहले आप का साथ छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा था. भाजपा और कांग्रेस के अलावा, समाजवादी पार्टी, उत्तराखंड क्रांति दल और उत्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने भी अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे.

यह भी पढ़ें 👉  चुनाव ड्यूटी से लौट रहा टीचर सड़क हादसे का शिकार, अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत

बागेश्वर उपचुनाव में वोटों की गिनती सुबह आठ बजे शुरू हुई. पहले राउंड में कांग्रेस प्रत्याशी बसंत कुमार 754 वोटों से आगे चल रहे थे. जिसके बाद दूसरे राउंड में पार्वती देवी बसंत कुमार से आगे निकल गई. वहीं तीसरे राउंड में बीजेपी, कांग्रेस प्रत्याशी से एक वोट आगे थी. इसके बाद पार्वती दास ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और धीरे-धीरे निर्णायक बढ़त बना ली और चुनाव जीत लिया. 2024 के चुनाव से पहले राज्य में सत्ताधारी बीजेपी के लिए यह बड़ी राहत है. हालांकि 2022की तुलना में बीजेपी की जीत का अंतर घटना भविष्य में इस सीट पर बीजेपी के लिए खतरा भी साबित हो सकता है।