रामनगर रानीखेत मुख्य मार्ग के लम्बे समय से क्षतिग्रस्त होने के विरोध में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सड़क में बैठकर मौन धरना दिया

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत:रामनगर रानीखेत मुख्य मार्ग मोहान क्षेत्र से रानीखेत मार्ग के लम्बे समय से क्षतिग्रस्त होने के विरोध में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सड़क में बैठकर मौन व्रत किया।

इस दौरान उन्होंने भाजपा सरकार की घोर निंदा करते हुए सरकार को चेताया,उन्होंने कहा कि क्षतिग्रस्त सड़क के निर्माण कराने की सरकार से मांग की है, दो माह के भीतर निर्माण कार्य शुरू नहीं होने पर 24 घंटे भूख हड़ताल पर बैठने की चेतावनी दी है।

यह भी पढ़ें 👉  सतपाल महाराज के निजी सचिव पर मुकदमा दर्ज़, आखिर स्टाफ ने‌ ही क्यों कराया मुक़दमा? जानिए

बुधवार को रामनगर -रानीखेत मुख्य मार्ग पर धरने पर बैठने के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भाजपा सरकार पर अनदेखी का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने अबतक सरकार रामनगर से रानीखेत, बेतालघाट, धुमाकोट, लैंसडोन समेत कई विधानसभा के मुख्य मार्ग अबतक क्षतिग्रस्त पड़े हैं। जिसके चलते दुर्घटनाओं की संभावना हमेशा बनी रही है।

यह भी पढ़ें 👉  राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू पहुंची उत्तराखंड, मुख्यमंत्री व राज्यपाल ने की आगवानी

साथ ही पर्यटकों को आवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि हमने दो माह के भीतर सड़को का निर्माण कराने की मांग की है। साथ ही रामनगर रानीखेत रोड को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने की मांग की है। उन्होंने मांगे पूरी नहीं होने पर जल्द ही राष्ट्रीय राज्य मार्ग की पोल खोलने की चेतावनी सरकार को दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *