सर्वे के नाम पर छापेमारी से व्यापारी गुस्से में, यह सप्ताह ‘सर्वे छापे बंद करो’ के रुप में मनाते हुए करेंगे विरोध कार्यक्रम

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: यहां जिला उद्योग व्यापार मंडल ने प्रदेश स्तर पर जीएसटी अधिकारियों द्वारा बाजार में बाजार भ्रमण/ सम्पर्क / सर्वे की आड़ में, बैकडोर से छापेमारी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य में इंस्पेक्टर राज लागू कर व्यापारियों का उत्पीड़न किया जा रहा है। यहां एक पत्रकार वार्ता आयोजित कर व्यापारी नेताओं ने कहा कि जिला उद्योग व्यापार मंडल रानीखेत एवं इसकी सभी 14 नगर इकाइयां व्यापारियों के उत्पीड़न का पुरजोर विरोध करेगी।

व्यापार मंडल पदाधिकारियों ने कहा कि कर्जे से दबी उत्तराखंड सरकार ने आदेश जारी कर GST कर संग्रह बढ़ाने के आदेश दिए हैं। इस आदेश का पालन करने के लिए अफसरों ने बाजार में सर्वे करने के नाम पर दुकानों में छापेमारी शुरू कर दी है। जबकि हर दुकान में हर समय पूरे सामान के बिल और पूरा टैक्स विवरण उपलब्ध नहीं रहते है। ज्यादातर दुकानदर टैक्स के पेचीदा मामलों को नहीं समझ पाते है और अपना टैक्स वकीलों के माध्यम से ही जमा करते है और ज्यादातर केस में ये विवरण वकीलों के पास ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत में दशहरा पर्व की धूम, श्री रामलीला कमेटी खड़ी बाजार ने‌ निकाले रावण और मेघनाथ के पुतले, रात्रि में जलेगा रावण रूपी अहंकार

कहा कि ऐसे में अचानक दुकानों में पहुंचने पर बिल और टैक्स के विवरण दुकानदारों के पास नहीं मिल पाते है और जीएसटी अधिकारियों द्वारा व्यापारियों पर भारी जुर्माना लगाने और माल जब्त करने कि कार्यवाही प्रदेश स्तर पर कि जा रही है, जो कि सीधा सीधा आम व्यापारियों का शोषण है।

पत्रकार वार्ता में व्यापारी नेताओं ने कहा कि जीएसटी के अधिकारियों के पास करदाताओं का पूरा डाटा उपलब्ध रहता है। यदि कोई व्यक्ति अपनी खरीद का विवरण नहीं भी देता है तो भी विभाग के पास बिक्री करने वाले व्यापारी से खरीदारी का विवरण पहुंच जाता है। ऐसे में आम व्यापारी को परेशान करने की जगह विभाग को व्यापारी कि फ़ाइल और विभाग के सिस्टम पर उपलब्ध जानकारी का मिलान करना चाहिए और व्यापारियों को नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने का समय दिया जाना चाहिए। लेकिन टैक्स बढ़ाने की नियत से बाजारों में जाकर व्यवसायियों को परेशान करने की नियत का हम पुरजोर विरोध करते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने औली सैन्य स्टेशन में जवानों के साथ किया शस्त्र पूजन

व्यापारियों को राहत देने से मुकरने का आरोप लगात हुए उन्होंनेे कहा कि पूर्व में वित्त मंत्री जी ने कहा था कि, किसी भी खाद्यान्न पर टैक्स नहीं लगाया जाएगा लेकिन, आज खाद्यान्न को 5% जीएसटी के दायरे में ले लिया गया है , इसके साथ ही कोरोना कल में भी लाइट और बिजली के बिल सहित बैंक कि किश्तों में भी आम व्यापारियों को कोई राहत नहीं दी गयी, जबकि उस समय महीनो तक सभी का व्यापार पूरी तरह बंद हो गया था। सरकार द्वारा लगातार व्यापारियों कि उपेक्षा की जा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत में मां दुर्गा की प्रतिमाओं की भव्य शोभायात्राओं के साथ हुआ मां दुर्गा महोत्सवों का समापन

व्यापार मंडल द्वारा ये सप्ताह ‘सर्वे छापे बंद करो’ सप्ताह के रूप में मनाया जा रहा है। जिसके अंतर्गत कल 26 जुलाई को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया जायेगा और 28 जुलाई को पुतला दहन कार्यक्रम किया जायेगा। यदि स्थिति में उसके बाद भी सुधार नहीं हुआ तो शीघ्र प्रदेश कार्यकारिणी के साथ मिलकर बड़े स्तर पर आंदोलन किया जायेगा। पत्रकार वार्ता में व्यापार मंडल जिलाध्यक्ष मोहन नेगी,नगर अध्यक्ष मनीष चौधरी, चिलियानौला व्यापार मंडल अध्यक्ष कमलेश बोरा,रानीखेत व्यापार मंडल महासचिव संदीप गोयल,उप सचिव विनीत चौरसिया,जिला मीडिया प्रभारी कामरान कुरैशी,वरिष्ठ व्यापारी उमेश पाठक मौजूद रहे।

Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.