सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर करोडो़ं की ठगी कर चुका महा जालसाज गिरफ्तार,गिरोह में सफेद पोश व पत्रकार भी निकल सकते हैं शामिल हैं

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी :सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर उत्तराखंड के 13 जिलों के न जाने कितने युवाओं को चूना लगाने वाला हल्द्वानी का जालसाज रितेश पांडे आखिरकार आज गिरफ्तार हो गया।पुलिस के अनुसार उसके गिरोह में पत्रकारों और सफेदपोशों के शामिल होने की भी उम्मीद है।

पुलिस जांच में यह भी सामने आया है कि जालसाज रितेश पांडे के ठगी के नेटवर्क में हल्द्वानी के कुछ पत्रकार और राजनीतिक पार्टियों के लोग भी शामिल हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि जालसाज रितेश पांडे का ठगी का नेटवर्क उत्तराखंड में ठगों का सबसे बड़ा गिरोह निकलेगा। जिस वक्त पुलिस ने जालसाज को गिरफ्तार किया वह फार्चूनर में सवार था, ऐसे में समझा जा सकता है कि वह किस तरह भोले भाले लोगों का ठगकर अय्याशी करता था।

आज एसपी सिटी हरबंस सिंह ने प्रेसवार्ता के माध्यम से जालसाज रितेश पांडे के कारनामों का काला चिट्ठा खोल दिया। फिलहाल पुलिस पूछताछ में रितेश पांडे ने नैनीताल जिले में 03 करोड़ 28 लाख 10 हजार रूपये की ठगी स्वीकारी है। वह हल्द्वानी और देहरादून से ठगी का नेटवर्क चलाता था, जिसमें उसके मददगार कुछ पत्रकार और राजनेता भी थे। रामनगर, नैनीताल, बाजपुर, रुद्रपुर, अल्मोड़ा में पहले ही रितेश पांडे के खिलाफ पीड़ित सामने आ चुके हैं जिसके बाद आरोपी के खिलाफ संबंधित थानों में रिपोर्ट दर्ज की गई है।

एसपी सिटी हरबंस सिंह के सामने रितेश पांडे ने कबूला कि वह अब तक 90 लोगों की सरकारी नौकरी लगवा चुका है। उसका ठगी का कारोबार साल 2014 से जारी है। अब तक वह सैकड़ों लोगों को नौकरी लगवाने के नाम पर करोड़ों का चूना लगा चुका है। फिलहाल मुखानी थाना पुलिस ने ठग रितेश पांडे के खिलाफ आईपीसी की धारा 420/504/506 लगाई हैं, जो उसके अपराध के हिसाब से बेहद कमजोर हैं। सवाल उठता है कि कोई भी व्यक्ति इतने बड़े स्तर पर ठगी अकेले दम पर नहीं कर सकता।

यह तय है कि उसके साथ पूरा गिरोह शामिल है। पत्रकार वार्ता के दौरान एसपी सिटी हरबंस सिंह ने कहा कि उम्मीद है कि जालसाज की गिरफ्तारी के बाद ठगी के दूसरे पीड़ित भी सामने आएंगे जिसके बाद आरोपी के खिलाफ दर्ज धाराओं को बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि पीड़ितों के साथ न्याय होगा, इसके लिए आरोपी के बैंक अकाउंट, प्रापर्टी समेत अन्य दस्तावेजों को खंगाला जाएगा। बहरहाल नौकरी का झांसा देने वाला ठग रितेश पांडे पुलिस की गिरफ्त में है।

मुखानी थाना पुलिस की कार्रवाई सवालों के घेरे में
इस पूरे मामले में मुखानी थाना पुलिस की कार्रवाई को भी सवालों के घेरे खड़ा कर दिया है। बताते चलें कि जिस पीड़ित की शिकायत के बाद आज मुखानी थाना पुलिस ने ठग रितेश पांडे को गिरफ्तार करने का दावा किया है वह पीड़ित नवीन चंद्र जोशी पिछले आठ महीने से मुखानी थाने के चक्कर काट काट कर थक चुका था।

बता दें कि मुखानी थाना पुलिस की हीलाहवली के परेशान होकर नवीन चंद्र जोशी ने एसएसपी पंकज भट्ट के सामने न्याय की गुहार लगायी थी जिसके बाद जालसाज के खिलाफ एफ आई आर दर्ज हो सकी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *