आयुर्वेद दिवस कार्यक्रम के क्रम में छावनी विद्यालय में बच्चों को दी गई आहार के महत्व व तरीकों की जानकारी

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: आयुर्वेद दिवस के उपलक्ष्य में दिनाक 19 सितंबर से 23 अक्टूबर तक आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला में आज छावनी विद्यालय में बच्चों को आयुर्वेद चिकित्सा और मोटे अनाज के फायदों के बारे में जानकारी दी गई।

डॉ पवन तिवारी चिकित्साधिकारी छावनी परिषद एवं डॉ कर्णिका जोशी आयुर्वेदिक चिकित्सक, छावनी परिषद द्वारा विद्यालय के शिक्षकों एवं छात्र- छात्राओं को मोटे अनाज के लाभ और भोजन करने के गलत तरीके के स्वास्थ्य पर प्रभाव की जानकारी प्रदान की गई। साथ ही आहार के शरीर के लिए महत्व को सविस्तार बताते हुए कहा गया कि मौसम और ऋतुओं के अनुकूल आहार ही ग्रहण करना चाहिए वही आहार पाच्य और शरीर की रोक प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक होता है।यह भी बताया गया कि भोजन करते समय किन बातों का विशेष खयाल रखना चाहिए।कहा गया कि भोजन हमेशा साफ सुथरे‌ स्थान में बैठकर करना चाहिए जहां आसपास का का वातावरण स्वच्छ हो। बच्चों को बताया गया कि भोजन करते समय अन्य कोई भी दूसरा कार्य साथ में नहीं ‌‌करना चाहिए मसलन टीवी, मोबाइल देखना अथवा बातचीत करना आदि ऐसा करने से शरीर को आहार का कोई लाभ नहीं ‌पहुंचता है। कार्यक्रम में डीoपीo रतूड़ी, फार्मासिस्ट, द्वारा बच्चों को स्वास्थ्य की जागरूकता के विषय में बताया गया।

यह भी पढ़ें 👉  केआरसी सेंटर आफिस में 21जून को आयोजित होगा भूतपूर्व सैनिक मेला, सभी भूतपूर्व सैनिकों से मेले में शिरकत कर अपनी समस्याएं बताने की अपील