नेशनल स्कॉलरशिप स्कीम में राआउप्रावि मदकोट ने राज्य में बनाया रिकार्ड , नेशनल स्कॉलरशिप के लिए आठ विद्यार्थियों का चयन

ख़बर शेयर करें -


खेल तथा शिक्षा के क्षेत्र में रोल मॉडल बन रहा है विद्यालय
जिपंस मर्तोलिया करेंगे विद्यार्थियों, अभिभावकों एवं शिक्षकों को सम्मानित
मुनस्यारी-राजकीय आदर्श उच्च प्राथमिक विद्यालय मदकोट से कक्षा 8 में अध्यनरत 8 विद्यार्थियों ने भारत सरकार द्वारा आयोजित नेशनल मेरिट स्कॉलरशिप स्कीम परीक्षा उत्तीर्ण की है। उत्तराखंड में यह पहला विद्यालय है, जहां से 8 विद्यार्थियों ने एक साथ इस परीक्षा को उत्तीर्ण किया है। इस विद्यालय द्वारा इस परीक्षा में राज्य में रिकॉर्ड कायम करने पर इस क्षेत्र में खुशी की लहर व्याप्त है।

यह सरकारी विद्यालय खेलकूद के साथ-साथ विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्ति परीक्षा में अब बनाने पर उत्तराखंड राज्य का मॉडल स्कूल बन गया है।
इस विद्यालय से कक्षा 8 में अध्यनरत विद्यार्थी निखिल मेहता,प्रमिला धामी,सुनील कुमार,आकाश रिंगवाल,बबली इमलाल,दिब्या दानू करिश्मा धामी,गौरव कोरंगा ने नेशनल मेरिट स्कॉलरशिप स्कीम परीक्षा उत्तीर्ण किया है। जिन्हें इंटर पास करने तक प्रत्येक को प्रति वर्ष 12000 रुपये कुल 48000 हजार रुपये की छात्रवृत्ति मिलेगी। प्रधानाध्यापक विक्रम सिंह परिहार ने बताया कि विद्यालय के शिक्षकों के उचित मार्गदर्शन में इस शिक्षा सत्र में इसी विद्यालय के कक्षा 6 में अध्यनरत चार विद्यार्थियों में गौरव धामी,दीपिका राणा, साक्षी धामी,रोशनी का चयन मुख्यमंत्री मेधावी छात्रवृत्ति के लिए हुआ है।
मुख्यमंत्री उदीयमान खिलाड़ी चयन परीक्षा में में इस विद्यालय से 5 विद्यार्थियों का चयन हुआ है।
जिन्हें 1500 रुपये प्रतिमाह छात्रवृत्ति मिल रही है। इस विद्यालय के 18 विद्यार्थियों का राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में चयन हुआ है।
एक छात्रा कुमारी गुंजन जेस्ठा ने लखनऊ में आयोजित अंडर 14 राष्ट्रीय गोला क्षेपण में प्रतिभाग कर क्षेत्र का मान बढ़ाया।
विद्यालय 82 छात्रों में प्रधानाध्यापक विक्रम सिंह परिहार सहायक अध्यापक बीरेंद्र मर्तोलिया मात्र दो शिक्षक तैनात है।
इंग्लैंड में भारतीय प्रवासी राज भट्ट के सहयोग से इस विद्यालय में मानदेय पर कविता रिंगवाल तथा भावना भट्ट दो शिक्षिकाओं को रखा गया है।
इस विद्यालय के प्रधानाध्यापक सहित शिक्षकों के कठिन परिश्रम का परिणाम है कि यह विद्यालय उत्तराखंड का रोल मॉडल विद्यालय बन गया है।
नेशनल स्कॉलरशिप स्कीम में गत वर्ष भी इस विद्यालय से तीन बच्चों का चयन हुआ था। विद्यालय की इन उपलब्धियों में पूर्व खण्ड शिक्षा अधिकारी विनोद सिंह, सहायक अध्यापक कैलाश खर्कवाल का सहयोग रहा है।
ग्रामीण बैंक मदकोट के शाखा प्रबंधक धीरज चंद द्वारा बैंक के माध्यम से किताबें उपलब्ध कराई गई।
जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने इस विद्यालय की उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बताया कि इस विद्यालय के समस्त प्रतियोगिताओं में उच्च स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों उनके अभिभावकों तथा अथक परिश्रम करने वाले शिक्षकों को विद्यालय में आयोजित सम्मान समारोह में सम्मानित किया जाएगा।
उन्होंने जिलाधिकारी से अनुरोध किया कि इस विद्यालय में प्रयोग की जा रही गतिविधियों को तथा अभिनव प्रयोगों को जिले के अन्य विद्यालयों में भी लागू करने के लिए कार्य योजना बनाई जाए।
उन्होंने कहा कि आज भी सरकारी विद्यालय हमें आशाओं से भी अधिक चौकाने वाले परिणाम दे रहे है। इसलिए हमें सरकारी शिक्षा व्यवस्था को और अधिक मजबूत बनाने के लिए आगे आना चाहिए।
उन्होंने कहा कि इन परिणामों से उत्तराखंड की सरकार को भी प्रेरणा लेनी चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  इस बार उत्तराखंड में 2019 की‌ तुलना में कम हुआ मतदान,पूरे प्रदेश में 53.56मतदान, उदासीन दिखा मतदाता