रानीखेत छावनी परिषद के नए सीईओ ने कार्यभार ग्रहण किया, छावनी परिषद नामित सदस्य ने उन्हें समस्याओं से किया बावस्ता

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत– छावनी परिषद के नवनियुक्त मुख्य अधिशासी अधिकारी कुणाल रोहिला ने छावनी परिषद कार्यालय में कार्यभार ग्रहण किया इस‌ मौके पर छावनी परिषद के नामित सदस्य मोहन नेगी व पूर्व सदस्य उमेश पाठक ने उनका स्वागत करते हुए उन्हें रानीखेत की समस्याओं से अवगत कराया।

यह भी पढ़ें 👉  बीर शिवा स्कूल चौखुटिया में पुलिस ने विद्यार्थियों को किया साइबर क्राइम के प्रति जागरूक

पूर्व सदस्यों ने कहा कि रानीखेत शहर के भवन काफी पुराने हैं वह जीर्ण शीर्ण अवस्था में है। जो भवन काफी खराब स्थिति में है उन्हें छावनी प्रावधानों के अनुसार भवन मरम्मत की इजाजत दी जाए। छावनी में लंबे समय से भवनों के दाखिल खारिज नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि जिंदगी लीज धारको के प्रपत्र पूर्ण है या पैतृक संपत्ति से संबंधित भवनों के दाखिल खारिज किए जाएं व अवैध भवनों का नियमानुसार नियमतिकरण किया जाए।

यह भी पढ़ें 👉  कविवर सुमित्रानंदन पंत की 124वीं जयंती उनके पैतृक गांव में समारोह पूर्वक मनाई गई, काव्य गोष्ठी आयोजित, साहित्यकार हुए सम्मानित

सदस्यों ने अन्य कई विषयों में मुख्य अधिशासी अधिकारी से चर्चा कर समस्याओं के समाधान की मांग की। मुख्य अधिशासी अधिकारी ने आश्वस्त किया कि समस्याओं का समाधान प्राथमिकता के आधार पर किया जाएगा। सदस्यों ने नगर के पर्यटन विकास से संबंधित योजनाओं को क्रियान्वित करने को कहा जिस पर अधिशासी अधिकारी ने विकास कार्य व पर्यटन विकास के लिए बजट आवंटित होने पर कार्य करने की बात कही।