अब बुंग-बुंग ग्राम सभा ने की चुनाव बहिष्कार की घोषणा,मोटर मार्ग से मलवा नहीं हटाने से हैं नाराज,एसडीएम तथा डीएम को भेजी सूचना

ख़बर शेयर करें -


धारचूला-सीमांत तहसील के चीन सीमा से लगे ग्राम पंचायत बुंग- बुंग (सिमखोला) के ग्राम वासियों ने मलवा आने के कारण बंद मोटर मार्ग को सुचारू नहीं किए जाने पर लोकसभा चुनाव के बहिष्कार की घोषणा कर दी है। इसकी सूचना जिलाधिकारी तथा उप जिलाधिकारी को भेजी गई है। सरकारी महकमों की घोर लापरवाही के कारण इस ग्राम पंचायत के 545 परिवार मोटर मार्ग की सुविधा से वंचित हो गए है।


ग्राम पंचायत बुंग-बुंग के लिए बना मोटर मार्ग बंद चल रहा है। इस मोटर को खोले जाने की लगातार मांग की जा रही है, लेकिन प्रधानमंत्री सड़क योजना की कार्यदायी संस्था लोक निर्माण विभाग पीएमजीएसवाई चुप्पी साधे हुई है। इस विभाग को इस मोटर मार्ग की 5 साल के लिए रखरखाव की जिम्मेदारी भी सौपी गयी है। जिस पर वह खरा नहीं उतर पा रही है। वर्तमान में एनपीसीसी डिपार्टमेंट की लापरवाही के कारण मोटर मार्ग बंद पड़ा हुआ है।
दोनों विभाग एक दूसरे के ऊपर जिम्मेदारी डाल कर उलझन पैदा कर रहे है।
एक भी विभाग मोटर मार्ग को खोलने के लिए सकारात्मक भूमिका नहीं निभा रहा है। एनपीसीसी विभाग का तो बुलडोजर यहां पर खड़ा है और चंद समय में मोटर मार्ग को खोल सकता है, लेकिन निवेदन करने के बाद भी वह टस से मस नहीं हो रहा है।
इस कारण ग्राम पंचायत के 545 परिवारों को मोटर मार्ग की सुविधा से वंचित रहना पड़ रहा है।
बुंग-बुंग के पूर्व प्रधान कुंदन सिंह भंडारी ने बताया कि मोटर मार्ग में आए बरसाती मलवे को साफ किए जाने की मांग को लेकर दस माह से लगातार विभाग से निवेदन किया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि आज-कल कर दिया जाएगा करके इस कार्य को करने का झूठा आश्वासन दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अगर विभाग ने ग्राम वासियों की इस पुकार को नहीं सुना ते आगामी लोकसभा चुनाव में इस गांव का एक भी नागरिक अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं करेगा। उन्होंने बताया कि इसकी सूचना प्रशासन को भेज दी गई है।
उन्होंने कहा कि मोटर मार्ग की सुचारु नहीं होने के कारण ग्राम वासियों को पैदल यात्रा करनी पड़ रही है। आवश्यक सामानों को पीठ में ढोकर लाना पड़ रहा है।
उन्होंने कहा कि दोनों विभाग लापरवाह बने हुए है।
इसका शिकार आम जनता को होना पड़ा है।

यह भी पढ़ें 👉  जी डी बिरला मैमोरियल स्कूल रानीखेत में एक बार फिर गूंजा राम का नाम , श्रद्धा व प्रेम से मनाया गया राम नवमी का पर्व और जी॰ डी॰ बिरला जयंती