139वीं जयंती पर याद किए गए पंडित नैन सिंह रावत, जन्मदिन पर राजकीय अवकाश घोषित करने व जन्म स्थान भटकूड़ा में स्मारक और संग्रहालय बनाने की उठी मांग

ख़बर शेयर करें -


*पहली बार स्कूली बच्चे बने मुख्य अतिथि
*प्रतिभागियों को किया गया सम्मानित
मुनस्यारी-19वीं शताब्दी की महान अन्वेषक पंडित नैन सिंह रावत की 139 वीं जयंती आज यहां धूमधाम से मनाई गयी। जयंती के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में पहली बार स्कूलों के बच्चे मुख्य अतिथि बने। मुख्य मंच पर अतिथि बनते हुए बच्चों को पहली बार देखा गया। पदाधिकारी सामान्य रुप से नीचे बैठे रहे, और निबंध तथा चित्रकला प्रतियोगिता में अव्वल घोषित बच्चों को अतिथि का सम्मान मिला।
कार्यक्रम में 21 अक्टूबर को उत्तराखंड में राजकीय दिवस घोषित किए जाने की मांग भी उठाई गई। पंडित नैन सिंह रावत की जन्म स्थान ग्राम भटकूड़ा में स्मारक तथा संग्रहालय बनाए जाने की मांग का प्रस्ताव पारित किया गया। उनकी स्मृति में मुनस्यारी में बन रहे उनके स्मारक का निर्माण कार्य तत्काल पूर्ण किए जाने का प्रस्ताव उत्तराखंड सरकार को भेजने का निर्णय लिया गया।
विकासखंड सभागार में क्षेत्र की सामाजिक संस्था सोसायटी फॉर एक्सन इन हिमालया के बैनर तले आयोजित जयंती समारोह में पंडित नैन सिंह रावत की पांचवीं पीढ़ी की पौत्र वधू श्रीमती हंसा रावत सहित मुख्य अतिथि के रूप में विराजमान बच्चों ने पंडित नैन सिंह रावत के प्रतिमा पर फूल माला चढ़ाकर दीप प्रज्वलित करके जयंती समारोह का शुभारंभ किया।
इस मौके पर राजकीय इंटर कॉलेज की छात्राओं ने वंदना तथा विवेकानंद विद्या मंदिर इंटर कॉलेज की छात्राओं ने स्वागत गीत गाकर उद्घाटन की औपचारिकता पूरी की।
दोनों विद्यालयों की छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्शन कर कार्यक्रम को आकर्षक बनाया।
इस मौके पर पंडित नैन सिंह रावत की जीवन पर आधारित भाषण प्रतियोगिता हुई। जिसमें जूनियर हाई स्कूल वर्ग में अंकित भंडारी, रिया मेहता, भूमिका भंडारी, हाई स्कूल वर्ग में भूमिका तोमक्याल, इंटर वर्ग में नीरज कुमार, निशा पंवार, स्नातक वर्ग में पंकज कुमार ने भाग लेते हुए उच्च स्थान प्राप्त किया।
निबंध प्रतियोगिता जूनियर वर्ग में चेतना भंडारी, कुलदीप बृथ्वाल, चित्रा आर्या, खगेंद्र सिंह तथा चित्रकला प्रतियोगिता जूनियर वर्ग में कार्तिक बृजवाल, अरुण भंडारी, गुंजन,
हाई स्कूल वर्ग चित्रकला में भूमिका तोमक्याल,निशा आर्या, कृर्तिका,हाई स्कूल निबंध प्रतियोगिता में तनिषा रावत, रोशनी, राधा, इंटर वर्ग निबंध प्रतियोगिता में गुंजन दशौनी, इंटर वर्ग चित्रकला प्रतियोगिता में जतिन सिंह कुंवर, निशा पंवार, स्नातक वर्ग चित्रकला में मयंक रावत, प्रकाश सिंह राना, सुनीता जैष्ठा, स्नातक निबंध प्रतियोगिता में तरुण देवली, हंसा कुमारी, प्रिया आर्या ने उच्च स्थान प्राप्त किया।
इन सभी प्रतिभागियों को कार्यक्रम में उपस्थित पंडित नैन सिंह रावत की पांचवीं पीढ़ी की पौत्रवधू श्रीमती हंसा रावत, बीएसएफ के पूर्व कमांडेंट श्रीराम सिंह धर्मशक्तू, संस्कृति कर्मी लक्ष्मण सिंह पांगती “लछबू”, जोहर क्लब के अध्यक्ष केदार सिंह मर्तोलिया ने जिला पंचायत सदस्य पुरस्कार 2023 देकर सम्मानित किया।
जिसमें प्रतिभागियों को प्रशस्तिपत्र तथा आकर्षक पुरस्कार प्रदान किया गया।
इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम में प्रस्ताव पारित किया गया कि उत्तराखंड सरकार 21 अक्टूबर को राजकीय अवकाश घोषित करते हुए उत्तराखंड के सरकारी तथा गैर सरकारी संस्थानों में पंडित नैन रावत की जयंती मनाने का फैसला ले। पंडित नैन रावत के जन्म स्थान भटकूड़ा में स्मारक तथा संग्रहालय बनाने का प्रस्ताव भी पास किया गया। मुनस्यारी में पंडित नैन सिंह रावत के निर्माणाधीन स्मारक का कार्य तत्काल पूर्ण करने के लिए बजट जारी करने की मांग भी उठाई गई।
कार्यक्रम का संचालन करते हुए जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने कहा कि पहली बार पंडित जी की मातृ भूमि में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है।
उन्होंने कहा कि पंडित नैन सिंह रावत को श्रद्धांजलि व सम्मान देने के लिए यह कार्यक्रम प्रतिवर्ष आयोजित किया जाएगा।
कार्यक्रम में धीरे-धीरे समस्त जिम्मेदारियां स्कूली बच्चों को सौंप जाने के लिए प्रयास किए जाएंगे।
इस मौके पर संदीप जैष्ठा,कमलेश जोशी ने विशेष सहयोग दिया।

यह भी पढ़ें 👉  वोट डालने हल्द्वानी जा रहे चिकित्सक की कार अनियंत्रित होकर खाई में गिरी, हुई मौत,