मोटे अनाज के उत्पादन एवं उपभोग को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से रानीखेत महाविद्यालय के विद्यार्थियों ने लगाया हाट बाजार

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: स्व० श्री जय दत्त वैला स्वतंत्रता संग्राम सेनानी राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय रानीखेत में मोटे अनाज के उत्पादन एवं उपभोग को प्रोत्साहित करने के लिए “हाट बाजार” का आयोजन किया गया। इस हाट बाजार का उद्घाटन महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर पुष्पेश कुमार पांडे ने किया।

गौरतलब है भारत सरकार के अनुरोध पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्ष 2023 को इंटरनेशनल ईयर ऑफ मिलेट्स घोषित किया गया है। जिसका मुख्य उद्देश्य मोटे अनाज के उत्पादन एवं उपभोग को प्रोत्साहित करना है।इसी के तहत महाविद्यालय में यह आयोजन किया गया।

हाट बाजार में विद्यार्थियों द्वारा भिन्न भिन्न प्रकार के मोटे अनाज जिनमें मंडुवा, झंगोरा, ज्वार, चौलाई, लाल चावल, भट्ट, गहत, मास, सोयाबीन सहित अनेक अन्य प्रकार के अनाजों को प्रदर्शित किया गया। इस हाट बाजार का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड में उगाए जाने वाले पारंपरिक अनाजों के संबंध में आमजन सहित विद्यार्थियों को जागरूक करना तथा उनके पोषक मूल्य एवं उपयोगिता के बारे में जानकारी प्रदान करना था। विद्यार्थियों के द्वारा मोटे अनाजों के उपभोग को आवश्यक बताते हुए उनमें पाए जाने वाले फाइबर, प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट तथा अन्य खनिज पदार्थों की उपयोगिता के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के प्राध्यापकों द्वारा हाट बाजार में लाए गए मोटे अनाजों की बढ़-चढ़कर खरीदारी की गई तथा अनाजों के फायदों के बारे में विद्यार्थियों को अवगत भी कराया गया।कार्यक्रम के अंतर्गत एक फोटो प्रदर्शनी का आयोजन भी किया गया। फोटो प्रदर्शनी तथा हाट बाजार में प्रथम द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर आने वाले विद्यार्थियों को प्राचार्य द्वारा पुरस्कृत भी किया गया।प्राचार्य द्वारा आगे भी इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित कराए जाने की प्रतिबद्धता व्यक्त की गई।

इस कार्यक्रम में 79 बटालियन एनसीसी के प्रभारी डॉ शंकर कुमार, 24 गर्ल्स बटालियन एनसीसी की डॉक्टर रूपा आर्या, डॉ प्रसून जोशी, डॉ प्राची जोशी, डॉ दीपा पांडे, डॉ अभिमन्यु कुमार, डॉ पारुल भारद्वाज, डॉ दीपक कुमार उप्रेती, डॉ गणेश सिंह नेगी, डॉ चंद्रशेखर पंत, डॉ महिराज मेहरा, डॉ विजय कुमार बिष्ट, डॉ दिनेश कुमार सहित महाविद्यालय के अन्य प्राध्यापक एवं महाविद्यालय स्टाफ भी उपस्थित रहा।