शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार के लिए राजकीय जूनियर हाई स्कूल पौड़ा कोठार की शिक्षिका यशोदा काण्डपाल का चयन,पहले भी मिल चुके अनेक सम्मान

ख़बर शेयर करें -


रानीखेत– राजकीय जूनियर हाई स्कूल पौड़ा कोठार की शिक्षिका यशोदा काण्डपाल को आगामी 27 नवम्बर को एम आई ई टी हल्द्वानी में होने जा रहे देवभूमि शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है। यह पुरस्कार मुख्यमंत्री पुस्कर सिंह धामी द्वारा प्रदान किया जाएगा।
बता दें कि देवभूमि शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार 2023 की चयन प्रक्रिया हेतु उच्चाधिकार प्राप्त कमेटी द्वारा तीन चरणों में शिक्षकों के कार्यों का मूल्यांकन किया जाता जाता है। इसके बाद ही शिक्षक का चयन किया जाता है। यशोदा कांडपाल को यह पुरस्कार शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य , विद्यालय के बच्चों का खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन तथा आईसीटी के नवाचारी प्रयोगों से बच्चों में पठन- पाठन के प्रति रुचि पैदा करने के लिए प्रदान किया जा रहा है।उनके चयन पर मुख्य शिक्षा अधिकारी अत्रेष सयाना , खंड शिक्षा अधिकारी एसएस चौहान क्षेत्र के विधायक प्रमोद नैनवाल, ब्लॉक प्रमुख हीरा रावत , नवाचारी संवाद के टीम मार्गदर्शन लक्ष्मण सिंह मेहता , एवं नवाचारी परिवार के अध्यापकों द्वारा उन्हें बधाई दी गई है।

यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल‌ की जिला इकाई की बैठक में उठी व्यापारिक व क्षेत्रीय समस्याएं, व्यापारियों की एकजुटता पर बल

ध्यातव्य है यशोदा कांडपाल द्वारा किए गए नवाचारों एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तीन स्वर्ण पदक प्राप्त करने पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा उनका पहले भी सम्मान किया जा चुका है। विद्यालय के बच्चों के समग्र उत्थान में रत यशोदा कांडपाल ने जून माह में समर कैंप का आयोजन किया था जिसमें विद्यालय के अलावा अन्य विद्यालय के बच्चों ने भी प्रतिभाग किया। समर कैंप में अध्यापिका यशोदा कांडपाल के द्वारा क्राफ्ट वर्क, नृत्य ,गायन ,खेल, फ्रूट डेकोरेशन सुलेख कला एवं ऐपण सिखाए गए एवं प्रतियोगिताएं कराई गई। इस तरह के कार्यक्रम यशोदा समय-समय पर कराती रहीं हैं।इसके अलावा यशोदा कांडपाल ने खेल जगत में भी अपनी जगह बनायी है।एथलीट यशोदा यशोदा कांडपाल ने सिंगापुर में हुई दो दिवसीय इंटरनेशनल मास्टर्स एथलेटिक्स चैम्पियनशिप के पहले ही दिन तीन स्पर्धाओं ऊंची कूद, त्रिपग कूद और बाधा दौड़ में तीन स्वर्ण पदक जीत कर देश -प्रदेश व विकास खंड का नाम रोशन किया था।इस चैम्पियनशिप में एशिया से 10 देशों ने प्रतिभाग किया था।

यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल‌ की जिला इकाई की बैठक में उठी व्यापारिक व क्षेत्रीय समस्याएं, व्यापारियों की एकजुटता पर बल

ज्ञात हो कि इससे पूर्व यशोदा कांडपाल राष्ट्रीय सिविल सर्विस मीट खेल चुकी हैं।इसके अतिरिक्त पूर्व में यशोदा ने आल इंडिया मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप में दमदार प्रदर्शन कर बाधा दौड़, ट्रिपल जंप और ऊंची कूद में तीन स्वर्ण पदक जीते थे। चार दिनों तक चली आल इंडिया मास्टर्स एथलेटिक्स चैंपियनशिप का आयोजन हरियाणा के पंचकूला में हुआ था। जिसमें शिक्षिका यशोदा ने तीन स्वर्ण पदक जीतकर उत्तराखंड का नाम रोशन किया था। इतना ही नही पिछले माह दूसरी ‘खेलो मास्टर्स गेम्स प्रतियोगिता में ताड़ीखेत विकासखंड की इस शिक्षिका ने चार सौ, 100 मीटर बाधा दौड़ में स्वर्ण तथा त्रिपग कूद स्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर प्रदेश व विकास खंड का नाम रोशन किया था। खेलो मास्टर्स गेम्स फाउंडेशन द्वारा दिल्ली के त्यागराज स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में गत 30 अप्रैल से 3 मई तक आयोजित हुई थी। यशोदा कांडपाल की इन्हीं उपलब्धियों को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने कार्यालय में प्रदेश का नाम रोशन करने वाली अध्यापिका यशोदा कांडपाल का सम्मान कर चुके हैं।
विगत वर्ष मलेशिया में दो से चार दिसंबर तक हुई अंतर्राष्ट्रीय एथलेटिक्स (एशियन)मास्टर्स प्रतियोगिता में शिक्षिका यशोदा कांडपाल ने हाई जम्प और ट्रिपल जम्प में सिल्वर तथा हर्डल्स में गोल्ड मेडल प्राप्त किया था।इतना ही प्रदेश के राज्यपाल द्वारा उन्हें शैलेश मटियानी शिक्षक सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है इसके अलावा अपने ही क्षेत्र में वे पंं ख्याली राम सती शिक्षक सम्मान से नवाजी जा चुकीं हैं अब 27नवम्बर को वह शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित होंगी।

यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल‌ की जिला इकाई की बैठक में उठी व्यापारिक व क्षेत्रीय समस्याएं, व्यापारियों की एकजुटता पर बल