केंद्रीय विद्यालय रानीखेत में लगी भारत-पाक विभाजन की त्रासदी पर प्रदर्शनी, विभाजन से उत्पन्न दर्दनाक और भयावह दृश्य की तस्वीरें देख सिहर जाएंगे आप

ख़बर शेयर करें -

रानीखेतः भारत पाक विभाजन के विस्थापितों के दर्द का प्रदर्शित करती एक प्रदर्शनी दिनांक 10 अगस्त से केंद्रीय विद्यालय रानीखेत में संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के आदेशानुसार संचालित हो रही है। यह प्रदर्शनी आज 13 अगस्त को भी सुबह 10:00 से 2:00 बजे तक लगी रही जिसे देखने के लिए  रानीखेत के नागरिकों के अलावा विभिन्न विद्यालयों के विद्यार्थी और शिक्षक भी प्रदर्शनी स्थल पर पहुंचे।

यह भी पढ़ें 👉  अंकिता हत्याकांड को लेकर भिकियासैंण में भी‌ उबाल, युवाओं ने‌ निकाली आक्रोश रैली

जीआईसी और वियरशिवा स्कूल से शिक्षकगण  विद्यार्थियों के साथ प्रदर्शनी में आए  और प्रदर्शनी देखकर काफी रोमांचित दिखे। बता दें कि भारत-पाक विभाजन से उत्पन्न दर्दनाक और भयावह दृश्य की तस्वीरें इस प्रदर्शनी में स्थापित की गई है और स्मार्ट बोर्ड के माध्यम से भी विभाजन की तस्वीरों को प्रदर्शित किया जा रहा है ।

प्रदर्शनी देखकर समझा जा सकता है कि विभाजन का विवाद अत्यंत पीड़ा जनक रहा था और भारत के विभाजन से करोड़ों लोग प्रभावित हुए थे। विभाजन के दौरान भी हिंसा में करीब 10 लाख लोग मारे गए थे और करीब 1 एक करोड़ 45 लाख से शरणार्थियों ने अपना घर बार छोड़कर बहुमत संप्रदाय वाले देश में शरण ली जिसमें से 78% स्थानांतरण पश्चिम में मुख्यतया पंजाब में हुआ ।  आपको बता दें कि केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय के निर्देश पर देश के 200 केंद्रीय विद्यालयों में भारत-पाक विभाजन की त्रासदी पर प्रदर्शनियां लगाई जा रही हैं अल्मोड़ा जनपद में केंद्रीय विद्यालय रानीखेत इसके लिए चयनित किया गया है।प्रदर्शनी को सफल बनाने के लिए केंद्रीय विद्यालय परिवार एकजुट होकर कार्य में लगा हुआ है।प्राचार्य सुनील कुमार जोशी ने कहा कि रानीखेत में पहली बार लगी इस रोमांचक प्रदर्शनी को देखा जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें 👉  पूर्व दर्जा राज्यमंत्री गिरफ्तार. गैर जमानती वारंट हुआ था जारी.जानें क्या था मामला
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.