गरमपानी में बाइक सवार की सड़क हादसे में मौत, वक्त पर 108 सेवा पहुंचती तो बच सकती‌ थी जान

ख़बर शेयर करें -

नैनीताल: हल्द्वानी अल्मोड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग ८७ के गरमपानी के पास झूला पुल पर हल्द्वानी से अल्मोड़ा की तरफ जा रही एक कार तथा अल्मोड़ा से कैंची धाम की ओर आ रही एक बाइक की आमने -सामने जोरदार टक्कर हो गयी, जबरदस्त टक्कर में बाइक के परखच्चे उड़ गए और बाइक चालक सड़क से नीचे की तरफ खेतो में जा गिरा।

जिसमे बाइक सवार मनीष सिंह बनकोटी पुत्र अनिल बनकोटी उम्र 21 वर्ष निवासी ठुंगाधार अल्मोड़ा तथा दिवांशु रावत पुत्र मनोहर रावत उम्र 16 वर्ष निवासी ठुंगाधार अल्मोडा गम्भीर रूप से घायल हो गए।
घटना होते ही आसपास के लोगों द्वारा इसकी सूचना खैरना चौकी को दी गयी, घटना की सूचना मिलते ही खैरना चौकी के इंचार्ज दलीप कुमार तथा प्रयाग जोशी मौके पर पहुँच गए। तथा दोनो घायलों को निजी वाहन से सामुदायिक स्वस्थ केन्द्र खैरना लाया गया, जहाँ दोनो घायलों को चोट को गंभीर जान हायर सेंटर रेफर कर दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  बीर शिवा स्कूल चौखुटिया में पुलिस ने विद्यार्थियों को किया साइबर क्राइम के प्रति जागरूक

वही मनीष के साथ घायल दिवांशु रावत ने बताया की घायल मनीष सिंह बनकोटी को हल्द्वानी हायर सेंटर ले जाने के दौरान उसने भीमताल में ही दम तोड़ दिया। जिसके बाद उसे हलद्वानी एम्बुलेंस से घर ले लाया गया।

यह भी पढ़ें 👉  कविवर सुमित्रानंदन पंत की 124वीं जयंती उनके पैतृक गांव में समारोह पूर्वक मनाई गई, काव्य गोष्ठी आयोजित, साहित्यकार हुए सम्मानित

वही चौकी इंचार्ज दिलीप कुमार ने बताया कि दोनों वाहनो की आपसी भिड़तं के बाद रेस्क्यू कर घायलो को सामुदायिक स्वस्थ केन्द्र पहुँचाया गया है, जहाँ हादसे के कारणों को जानने की कोशिश की जा रही है।

पहाड़ पर लचर स्वास्थ्य सुविधाओं की एक बार फिर पोल खुल गई जिसके चलते एक युवक को अपनी जान गवां कर चुकानी पड़ी । हादसे के बाद मनीष को तुरन्त सामुदायिक स्वस्थ केन्द्र खैरना लाया गया जिसके बाद डॉ अनिल गंगवार द्वारा चोट गंभीर जान उसे हायर सेंटर हलद्वानी को रेफर कर दिया गया, जिसके बाद उसके साथ आये दोस्तो द्वारा 1 घण्टे तक अति आवश्यक 108 को कॉल करते रहे लेकिन लेकिन किसी ने भी कॉल नही उठाया जिसके चलते उसके परिजन उसे अन्य वाहन के माध्यम से हलद्वानी को ले गए, लेकिन कैंची, भवाली तथा भीमताल में भारी जाम के चलते वह समय पर हायर सेंटर नही पहुँच पाये जिससे मनीष ने भीमताल पहुँचते ही दम तोड़ दिया। अगर मनीष को 108 की समय पर सुविधा तथा मार्ग में जाम नही मिलता तो शायद मनीष की जान बच जाती।