यूपी की हरी झंडी के बाद रोडवेज की बसों का अंतराज्यीय संचालन शुरु

ख़बर शेयर करें -

यूपी सरकार ने अंततः उत्तराखंड और दिल्ली के लिए बस संचालन को हरी झंडी दे दी है। यूपी सरकार के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने यूपी रोडवेज के आयुक्त को इस बावत आदेश जारी किया । इसके बाद बुधवार से उत्तराखंड के सभी बस डिपो से उत्तर प्रदेश के शहरों समेत दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के लिए बस संचालन शुरू हो गया है। हालांकि, दोपहर बाद मिले आदेश के कारण लखनऊ, कानपुर, जयपुर जैसी कुछ बस सेवाएं संचालित नहीं हो सकीं, लेकिन यह सेवाएं गुरुवार यानी आज से सुचारू होने की उम्मीद है। उत्तर प्रदेश की मंजूरी के कारण उत्तराखंड के गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के बीच भी बस संचालन नहीं हो पा रहा था, लेकिन अब यह भी शुरू हो गया। रोडवेज महाप्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि उत्तर प्रदेश की मंजूरी के बाद पूरे उत्तराखंड से अंतरराज्यीय बस संचालन शुरू कर दिया गया है।
अप्रैल में कोरोना की दूसरी लहर चरम पर होने के कारण उत्तर प्रदेश और हिमाचल सरकार ने अंतरराज्यीय बस संचालन पर रोक लगा दी थी। जिसके कारण उत्तराखंड से अंतरराज्यीय बस परिवहन पूरी तरह ठप हो गया था। दरअसल, उत्तराखंड को अपनी बसें किसी भी राज्य में भेजने के लिए उत्तर प्रदेश या हिमाचल की सीमा से होकर गुजरना पड़ता है। दोनों राज्यों की अनुमति ना होने की वजह से उत्तराखंड बस संचालन शुरू नहीं कर पा रहा था। उत्तर प्रदेश से पिछले एक माह से बस संचालन की अनुमति मांगी जा रही थी। खुद उत्तराखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री ने इस संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से दो हफ्ते पहले बस संचालन की अनुमति का आग्रह किया था, इसके बावजूद उत्तर प्रदेश की मंजूरी नहीं मिली। अलबत्ता, उत्तर प्रदेश की बसें उत्तराखंड की सीमा तक बेधड़क संचालित हो रही थीं। इस बीच एक जुलाई से हिमाचल प्रदेश ने बस संचालन की मंजूरी दे दी। जिसके बाद उत्तराखंड ने देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश और कोटद्वार से चंडीगढ़, धर्मशाला, शिमला, रोहड़ू, नाहन, पांवटा साहिब आदि के लिए बस संचालन शुरू कर दिया था। इसके अगले ही दिन देहरादून से वाया पांवटा-यमुनानगर-करनाल मार्ग से दिल्ली, गुरुग्राम और फरीदाबाद के लिए बस संचालन शुरू कर दिया गया। पहले दिल्ली जाने वाली बसें वाया रुड़की-मेरठ होकर जाती थीं, लेकिन उत्तर प्रदेश में संचालन की अनुमति ना होने से उत्तराखंड को वैकल्पिक मार्ग से बस दिल्ली के लिए चलानी पड़ी। मौजूदा समय में देहरादून के साथ ऋषिकेश और हरिद्वार से भी वाया करनाल बसें दिल्ली संचालित की जा रही थी।

यह भी पढ़ें 👉  आर्मी पब्लिक स्कूल रानीखेत के विद्यार्थियों ने आजादी की ७५वीं वर्षगांठ पर नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति से आजादी के नायकों का कराया स्मरण

Leave a Reply

Your email address will not be published.