कांग्रेस ने गांधी कुटीर से आरंभ किया ‘भारत जोड़ो तिरंगा यात्रा’ का पहला चरण, आजादी के संघर्ष में कांग्रेस के योगदान का किया ज़िक्र

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत:आज ज़िला/ब्लॉक/नगर कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान उत्तराखंड कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा जी के निर्देश पर भारत जोड़ो-तिरंगा यात्रा का प्रथम चरण गांधी कुटीर ताड़ीखेत से शुरू किया गया।
कार्यक्रम ब्लॉक प्रमुख हीरा सिंह रावत के नेतृत्व में किया गया। इस मौके पर‌ वक्ताओं ने आजादी के संघर्ष का जिक्र करते कहा कि 9 अगस्त 1942 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा अंग्रेजों भारत छोड़ो के आंदोलन की शुरुआत की गई और महात्मा गाँधी जी ने करो या मरो का नारा दिया। गाँधी जी के इस आंदोलन से ब्रिटिश सरकार में दहशत का माहौल बन गया था। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 4 जुलाई 1942 को एक प्रस्ताव पारित किया था कि अंग्रेज जब तक भारत नहीं छोड़ते तब तक उनके खिलाफ देशव्यापी नागरिक अवज्ञा आंदोलन चलाया जाएगा। वक्ताओं ने अपने संबोधन में बताया कि कांग्रेस के तत्कालीन नेताओं पंडित जवाहरलाल नेहरू, मौलाना अबुल कलाम आजाद, सरदार बल्लभ भाई पटेल, डॉ० राजेन्द्र प्रसाद, अशोक मेहता ने इस आंदोलन की वृहद रूपरेखा तैयार की, हालांकि आरएसएस, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, हिन्दू महासभा, मुस्लिम लीग व भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने इस आंदोलन का विरोध किया।

यह भी पढ़ें 👉  स्व. इदरीश बाबा स्मृति सद्भावना फुटबॉल मैच का शुभारंभ,ऐरो स्पोर्ट्स और रानीखेत स्पोर्ट्स क्लब के खिलाड़ियों ने किया बेहतरीन प्रदर्शन

कार्यक्रम की अध्यक्षता ज़िला अध्यक्ष महेश आर्या और संचालन ब्लॉक अध्यक्ष गोपाल सिंह देव ने किया। कार्यक्रम में जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि हेमंत सिंह रौतेला, क्षेत्र पंचायत सदस्य अमित पांडेय, जिला अध्यक्ष महेश आर्या, ब्लाक अध्यक्ष गोपाल देव, क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रतिनिधि मोहन सिंह नेगी, ज्येष्ठ प्रमुख मोहन सिंह नेगी, जिला पंचायत सदस्य देवेन्द्र सिंह रावत, कुलदीप कुमार,ललित मोहन, किशन सिंह अधिकारी, मोहन चंद्र पपनै, प्रकाश चन्द्र आर्या, विरेन्द्र कुमार, मीडिया प्रभारी सोनू कुरैशी सहित अनेक कांग्रेसी कार्यकर्ता मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर क्षेत्रीय विधायक के अनर्गल वक्तव्य से नाराज़ कार्यकर्ताओं ने फूंका क्षेत्रीय विधायक नैनवाल का पुतला
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.