घोषित जिले की मांग को लेकर रानीखेत में नागरिकों ने निकाला मशाल जुलूस

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: चार घोषित जिलों की संघर्ष समिति के आह्वान पर 15 अगस्त 2011 में घोषित चारों जिलों रानीखेत, डीडीहाट, यमुनोत्री तथा कोटद्वार को अमलीजामा पहनाए जाने की मांग को लेकर रानीखेत में आज सर्वदलीय मशाल जुलूस निकाला गया।
चार घोषित जिलों की संघर्ष समिति के संरक्षक डी एन बड़ोला की अगुवाई में सुभाष चौक से आरम्भ हुए मशाल जुलूस में नागरिक आज दो अभी दो,रानीखेत जिला दो,तथा दस साल पहले 2011 में घोषित चार जिलों को धरातल पर उतारने की मांग करते हुए नारेबाजी कर रहे थे।
उल्लेखनीय है कि बीते दस सालों में जिलों को लेकर सरकारों द्वारा गंभीरता नहीं दिखाई जाने से नागरिक ऐन चुनाव से पहले इस मांग पर लामबंद होने लगे हैं इसी क्रम में चार जिलों की समन्वय समिति के आह्वान पर आज मशाल जुलूस निकालकर इस मांग को अंधेरे में रख कर बैठी सरकार को रोशनी दिखाने की कोशिश की गई।
मशाल जुलूस में संघर्ष समिति के संरक्षक,डी एन बडो़ला,उपाध्यक्ष मोहन नेगी,गिरीश भगत,नरेद्र रौतेला,कांग्रेस अध्यक्ष उमेश भट्ट,ब्लाक प्रमुख हीरा रावत, कैलाश पांडे भगवंत नेगी,यतीश रौतेला,विमल भट्ट , कमलेश बोरा, कामरान कुरैशी,शौकत अली, गोपाल देव, मदन कुवार्बी ,नवल पांडे ,कुलदीप कुमार,शाकिर हुसैन,पंकज मुनगली,आम आदमी पार्टी के जगदीश जोशी,अतुल जोशी,आदि कई नागरिक शामिल रहे।

यह भी पढ़ें 👉  छावनी विद्यालयों में धूमधाम से मना आजादी का जश्न, देशभक्ति व लोक संस्कृति आधारित प्रस्तुतियों ने मन मोहा

Leave a Reply

Your email address will not be published.