मिशन इंटर कॉलेज में डीसीएम श्रीराम लि.के जीएम मनीष जोशी द्वारा प्रदत्त हुडिज का वितरण, हुडिज पाकर छात्र-छात्राएं दिखे प्रफुल्लित

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत: रानीखेत मिशन इंटर कॉलेज में आज एक कार्यक्रम में नौवीं कक्षा में नव प्रवेशित पचास बच्चों को डीसीएम श्री राम लिमिटेड के महाप्रबंधक मनीष जोशी द्वारा प्रदान की गई हुडिज का वितरण रंगकर्मी, साहित्यकर्मी विमल सती एवं प्रधानाचार्य सुनील मसीह द्वारा संयुक्त रुप‌ से किया गया।
विद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में रंगकर्मी विमल सती के माध्यम से डीसीएम श्रीराम लि के जीएम मनीष जोशी द्वारा प्रदत्त हुडिज छात्र-छात्राओं को वितरित की गई। इस अवसर पर अपने संबोधन में रंगकर्मी विमल सती ने कहा कि ये बच्चों को कोई सहायता नहीं है अपितु उपहार है।हमें उपहार और उपकार शब्द को समझना होगा।ये हुडिज‌ उपकार स्वरूप नहीं अपितु उपहार स्वरूप है। उपकार तो हम नई पीढ़ी से समाज के प्रति चाहते हैं कि वे पढ़े लिखे, संस्कारिक बने और एक नए बेहतर‌ समाज का निर्माण करें। उन्होंने डीसीएम श्री राम के महाप्रबंधक मनीष जोशी के सेवाभाव की प्रशंसा करते कहा कि समाज आज भी सहयोग के हाथ और साथ से भरा पड़ा है।शिक्षा के संसाधन मुहैया कराने में हम सब पीछे‌ नहीं रहेंगे लेकिन बच्चे भी अपने दायित्व बोध को समझकर शिक्षा और संस्कार से जुड़े। उन्होंने बच्चों से मोबाइल का कम-से-कम उपयोग और पुस्तकों से दोस्ती करने की सलाह दी।
प्रधानाचार्य सुनील मसीह ने विद्यालय के बच्चों को हुडिज दिलाने के लिए मनीष जोशी और‌ विमल सती का आभार जताया।शिक्षक अनिल मनी ने कहा कि भविष्य में विद्यालय के शिक्षक भी बच्चों को शिक्षा संसाधन मुहैया कराने में मददगार‌ बनेंगे। कार्यक्रम में छात्र -छात्राएं हुडिज का उपहार पाकर प्रफुल्लित नजर आए। शिक्षकों ने भी बच्चों को हुडिज वितरित करने में सहयोग किया। कार्यक्रम का संचालन शिक्षक गौरव भट्ट‌ ने किया। उन्होंने विद्यालय के‌ विद्यार्थियों को सहयोग करने‌वाले मनीष जोशी,निष्ठा देसाई और विमल सती के प्रति धन्यवाद पत्र पढ़ा।

यह भी पढ़ें 👉  बीर शिवा स्कूल चौखुटिया में पुलिस ने विद्यार्थियों को किया साइबर क्राइम के प्रति जागरूक

इस अवसर पर‌ अनिल मनी,नितिन बर्ग, संजय दास, मनोज कुमार जोज़फ, केवल कांडपाल,सतीश मसीह, अजय चंद ,नीलम संदीप सिंह,संजीव एम सिंह एवं छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  कविवर सुमित्रानंदन पंत की 124वीं जयंती उनके पैतृक गांव में समारोह पूर्वक मनाई गई, काव्य गोष्ठी आयोजित, साहित्यकार हुए सम्मानित