नगर पालिका में शामिल करने और छावनी बहिष्कार को‌ लेकर धरना-प्रदर्शन दसवें दिन जारी, लोकसभा चुनाव बहिष्कार का ऐलान

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत : सिविल एरिया को रानीखेत छावनी से आज़ादी दिलाने और पू्र्व सृजित नगर पालिका में शामिल किए जाने की मांग पर रानीखेत विकास संघर्ष समिति का धरना प्रदर्शन गांधी पार्क में दसवें दिन भी जारी रहा। धरना स्थल पर हुई बैठक में आंदोलन को लोक सभा चुनाव तक जारी रख‌ते हुए मांगे पूरी न होने पर‌ चुनाव बहिष्कार करने की घोषणा की‌ ग‌ई। साथ ही 28 मार्च मशाल जुलूस और 31 मार्च के बाजार‌ बंद के‌ निर्णय को पूर्ववत रखा गया।

यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल‌ की जिला इकाई की बैठक में उठी व्यापारिक व क्षेत्रीय समस्याएं, व्यापारियों की एकजुटता पर बल

धरना -प्रदर्शन के दौरान आंदोलन के भविष्य की रणनीति पर मंथन हुआ। निर्णय लिया गया कि इस जनांदोलन को रानीखेत सिविल क्षेत्र को पूर्ण रूप से नगरपालिका में सम्मिलत होने तक जारी रखा जाएगा। आंदोलन को लोकसभा चुनाव 2024 तक जारी रखते हुए मांग न‌ माने जाने पर‌ लोकसभा चुनाव का बहिष्कार किया जाएगा।
बैठक में निर्णय लिया गया कि 28 मार्च को दिन में गाँधी चौक में बैठक होगी तथा सायं 6:30 बजे मशाल जलूस निकाला जाएगा साथ ही 31 मार्च 2023 को पूर्ण रूप से बाजार बंदी रखी जायेगी। रानीखेत विकास संघर्ष समिति समिति ने जनता से इस आन्दोलन में बढ़-चढ़ कर भागीदारी करने की अपील भी की।
आज धरने में व्यापार मंडल पदाधिकारीगण, छावनी परिषद के निवर्तमान सभासद, रानीखेत के वरिष्ठ नागरिक, होटल एसोसिएशन, छात्र संघ सहित राजनीतिक और गैर राजनीतिक संगठनों सहित व्यापारियों ने सहभागिता की।

यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल‌ की जिला इकाई की बैठक में उठी व्यापारिक व क्षेत्रीय समस्याएं, व्यापारियों की एकजुटता पर बल