जे एंड जे सिटी मांटेसरी स्कूल का वार्षिकोत्सव रंगारंग कार्यक्रम के साथ संपन्न, छात्र -छात्राओं ने विभिन्न देशों की संस्कृति मंच पर उतारी

ख़बर शेयर करें -


रानीखेत – जे एंड जे सिटी मांटेसरी स्कूल गनियाद्योली का वार्षिकोत्सव रंगारंग कार्यक्रम के साथ संपन्न हुआ। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने विभिन्न देशों की लोक संस्कृति को समूह नृत्यों के माध्यम से मनमोहक रूप में मंच पर उतारा।
कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार, रंगकर्मी विमल सती ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने शिक्षक की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए छात्र -छात्राओं से शिक्षक-शिक्षिकाओं का आदर सम्मान करने को कहा साथ ही अभिभावकों से भी अनुरोध करते हुए कहा कि समाजिककरण की पहली पाठशाला बच्चों का घर है, घर के परिवेश में ही बच्चे संस्कार ग्रहण करते है अतैव बच्चों को बेहतर संस्कार देकर श्रेष्ठ नागरिक बनाएं न कि पैसा कमाने की मशीन। श्री सती ने विद्यालय की कम समय में उत्तरोत्तर तरक्की पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि प्रधानाचार्य और शिक्षकों के कड़े परिश्रम से विद्यालय आज निजी विद्यालयों की श्रेणी में प्रथम पायदान पर है। उन्होंने बच्चों द्वारा प्रस्तुत सांस्कृतिक प्रस्तुतियों को भी मन मोहने वाली बताया।
प्रधानाचार्य विनोद खुल्बे ने मुख्य अतिथि का स्मृति चिह्न व पुष्प गुच्छ से स्वागत किया। विद्यालय कि वार्षिक आख्या में उन्होंने विद्यालय की शिक्षा व खेल, सांस्कृतिक उपलब्धियों का वर्णन किया।विशिष्ट अतिथि जनार्दन पंत ने अपने संबोधन में संस्कृत सूक्तियों के जरिए आदर्श छात्र,शिक्षक और अभिभावक को परिभाषित किया।
इस अवसर पर नर्सरी से ग्यारहवीं कक्षा तक के छात्र -छात्राओं ने वार्षिकोत्सव थीम के अनुसार भारत,नेपाल, श्रीलंका, मलेशिया, यूएस,स्वीडन, आस्ट्रेलिया, बंग्लादेश, कोरिया,चीन, श्रीलंका सहित करीब चौदह देशों के लोक नृत्यों की प्रस्तुति दी। सामाजिक विसंगतियों पर प्रहार करती नाट्य प्रस्तुतियों ने भी अभिभावकों की सराहना अर्जित की।इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षक-शिक्षिकाओं के अतिरिक्त बड़ी संख्या में अभिभावक मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  इस बार उत्तराखंड में 2019 की‌ तुलना में कम हुआ मतदान,पूरे प्रदेश में 53.56मतदान, उदासीन दिखा मतदाता