जानें,आज क्या आई राशन विक्रेताओं के लिए राहत भरी खबर

ख़बर शेयर करें -

देहरादून:- प्रदेश के सरकारीे राशन विक्रेताओं के लिए राहत भरी खबर है।सरकार ने राज्य खाद्यान्न योजना व चीनी के लिए राशन विक्रेताओं का लाभांश बढा कर 50 रू. प्रति कुन्तल करने का फैसला लिया है अब तक लाभांश चीनी में 07 रूपये 28 पैसे और राज्य खाद्य योजना में 18 रूपये प्रति कुन्तल था।
प्रदेश के खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री बंशीधर भगत की अध्यक्षता में विधानसभा स्थित सभा कक्ष में खाद्य् एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के अन्तर्गत सरकारी राशन विक्रेताओं की समस्यों के सम्बन्ध में विभागीय समीक्षा बैठक आयोजित की गई।

यह भी पढ़ें 👉  कांग्रेस की 'भारत जोड़ो तिरंगा यात्रा' देश भक्ति गीतों और स्वतंत्रता सेनानियों की गाथा‌ लेकर‌ पहुंची गांव -गांव

बैठक में राशन विक्रेताओं की समस्याएं सुनने के बाद निर्णय लिया गया कि राज्य खाद्यान्न योजना व चीनी के लिए राशन विक्रेताओं का लाभांश बढा कर 50 रू. प्रति कुन्तल किया जायेगा। अभी तक यह चीनी में 07 रूपये 28 पैसे और राज्य खाद्य योजना में 18 रूपये प्रति कुन्तल था।
परिवहन से सम्बन्धित समस्यों का समाधान करने के लिए कहा गया कि परिवहन मद में भुगतान के लिए भारत सरकार से बजट प्राप्त किया जाना है, इसके लिए केंद्रीय खाद्य मंत्री से शीध्र ही प्रदेश के खाद्य मंत्री मुलाकात करेंगे।
इसके अलावा निर्णय लिया गया कि सभी गोदामों तथा राशन विक्रेताओं को तौल कर खाद्यान्न व चीनी दिया जायेगा। इसके लिए इलेक्ट्रानिक काॅट भी लगाया जायेगा। बेस गोदामों पर बडे धर्म काॅट भी लगाया जायेगा।

यह भी पढ़ें 👉  आर्मी पब्लिक स्कूल रानीखेत के विद्यार्थियों ने आजादी की ७५वीं वर्षगांठ पर नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति से आजादी के नायकों का कराया स्मरण

राशन विक्रेता के कोरोना से मृत्यु होने पर वारिश को दुकान आबंटित किया जायेगा तथा 10 लाख रूपये की बीमा स्वरूप आर्थिक सहायता दी जायेगी।

यह भी पढ़ें 👉  'आजादी का अमृत महोत्सव' के उपलक्ष्य में रानीखेत में ‌‌‌‌‌‌भाजयुमो ने दोपहिया काफिले के साथ निकाली तिरंगा यात्रा

बैठक में बताया गया कि अभी तक 03 महीने के लिए चीनी और खाद्यान्न योजना का खाद्यान्न उपलब्ध है।
बैठक में सचिव, सुशील कुमार, अपर सचिव प्रताप शाह, सयुक्त आयुक्त पी.एस पांगती, सहित अन्य विभागीय अधिकारी व राशन विक्रेताओं का प्रतिनिधि मण्डल मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.