कैबिनेट में गोल्डन कार्ड की कटौती बंद करने का प्रस्ताव न आने से पैंशनर्स गुस्से में,आंदोलन 66 वें दिन भी जारी

ख़बर शेयर करें -

भिकियासैंण: तहसील मुख्यालय पर उत्तराखंड पैंशनर्स संगठन रामगंगा भिकियासैंण का धरना आज 66वे दिन भी जारी रहा। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज सल्ट विकासखंड के पैशनर्स ने धरना दिया। कल हुई कैबिनेट की बैठक में गोल्डन कार्ड की कटौती बन्द करने का प्रस्ताव नहीं आने से पैंशनर्स काफी गुस्से में थे। आज सुबह से ही आन्दोलनकारी सरकार के खिलाफ़ जमकर नारेबाजी कर रहे थे। और जन गीत गाकर सरकार को चेतावनी दे रहे थे।

बैठक को संबोधित करते हुए संगठन के अध्यक्ष तुला सिंह तड़ियाल ने कहा कि,कल हुई कैबिनेट की बैठक में भी गोल्डन कार्ड से हो रही असंवैधानिक कटौती को बन्द करने के सम्बन्ध में कोई प्रस्ताव नहीं लाया गया। उन्होंने कहा कि बैठक में सीजीएचएस की दर पर स्वास्थ्य सुविधाएं देने की बात जरूर की गई है परन्तु यह सरकार का एक झुनझुना मात्र है । सरकार सीजीएचएस की दर से पहले से ही कटौती कर रही है क्या उसका कोई लाभ मिल रहा है।
उन्होंने आगे कहा इस प्रदेश में अन्धेर नगरी का राज़ चल रहा है। यहां कार्यरत कर्मचारियों, पैंशनर्स व पारिवारिक से एक-समान कटौती हो रही है। क्या हमारे राजनेताओं को यह भी जानकारी नहीं है कि पैंशनर्स को 50 प्रतिशत व पारिवारिक पेंशनर्स को 30 प्रतिशत पैंशन मिलती है तब फिर एक-समान कटौती किस आधार पर की गई है। कल हुई कैबिनेट की बैठक में इस मुद्दे को भी नहीं छुआ गया।
आज की बैठक में तय हुआ कि आगामी सोमवार को एक बड़ी बैठक बुलाई जाएगी जिसमें आन्दोलन की अगली रणनीति पर विचार विमर्श होगा तथा माननीय उच्च न्यायालय में वाद दायर करने पर भी विचार किया जाएगा। बैठक को पूर्व प्रधानाचार्य गोपाल दत्त भट्ट, डॉ विश्वम्बर दत्त सती, मोहन सिंह बिष्ट, गंगादत्त जोशी,देब सिंह घुगत्याल,आनन्द प्रकाश लखचौरा, किसन सिंह मेहता, मोहन सिंह नेगी, देबी दत्त लखचौरा, तिल राम आर्य, यू डी सत्यबली, राजेन्द्र सिंह मनराल, देब सिंह बंगारी, बालम सिंह बिष्ट, गंगा दत्त शर्मा, खीमानंद जोशी,बालम सिंह रावत, राम सिंह रावत, राम सिंह बिष्ट, केशव दत्त ध्यानी, आदि लोगों ने सम्बोधित किया।

यह भी पढ़ें 👉  छावनी परिषद विद्यालय के विद्यार्थियों ने पुरजोश के साथ निकाली तिरंगा रैली, माहौल हुआ देश भक्ति से सराबोर

Leave a Reply

Your email address will not be published.