‘श्रेय लूटन की लूट है,लूट सके तो लूट’ रक्षा मंत्रालय के नीतिगत फैसले का श्रेय लेने के लिए सुस्त राम भी हुए चुस्त

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत:भारत सरकार द्वारा देश की 62 छावनी परिषदों की नागरिक आबादी को औपनिवेशिक कैन्ट एक्ट से मुक्त कर देश के अन्य क्षेत्रों की भांति उन्हें भी सम्पत्ति एवम अन्य नागरिक अधिकारों की बहाली का संकेत क्या दिया चार साल से सुस्त पड़े नेता भी चुस्ता गए हैं।ये सियासत है साहब, यहां अकर्मण्य नेता भी नीतिगत फैसलों पर श्रेय का सेहरा अपने सिर बांधने से भला कहां चूकते हैं!

अभी दो दिन पहले रक्षा मंत्रालय ने यह तर्क़ देते हुए कि बजट का एक बड़ हिस्सा छावनी परिषदों पर खर्च हो रहा है, छावनी परिषदों को समाप्त करने का संकेत क्या दिया।अब तक राज्य कैबिनेट से इस मामले एक लाइन का प्रस्ताव तक पास करा पाने में असफल‌ रहे नेताद्वय स्व जयकारी के लिए दिल्ली दौड़ लिए।

अल्मोड़ा पिथौरागढ़ क्षेत्र के सांसद अजय टम्टा व रानीखेत के विधायक डा प्रमोद नैनवाल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वो रक्षामंत्री राजनाथ सिंह
रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट का आज दिल्ली में हार्दिक आभार व्यक्त किया ।
नेताद्वय ने बताया कि उनके चुनाव जीतने के बाद से ही उनके लिए रानीखेत कैन्ट क्षेत्र की समस्याएं चुनौतियां बनी थीं जिसके लिए लगातार प्रदेश सरकार व केन्द्र सरकार में अपने स्तर से भूमि की मार्किंग हेतु कैन्ट के सी ओ व रानीखेत के संयुक्त मजिस्ट्रेट और अल्मोड़ा के जिलाधिकारी के साथ बैठक कर अपने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को ज्ञापन व विस्तृत चर्चा की गयी ।

अब रक्षा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा लिए गये इस निर्णय से देश की जनता व रानीखेत की जनता की काफी लम्बे समय से की जा रही मांग का मार्ग प्रशस्त हो गया है।इस अवसर पर सांसद अजय टम्टा वह विधायक रानीखेत डा प्रमोद नैनवाल ने भाजपा कार्यकर्ताओं एवम रानीखेत के स्थानीय जनता को बधाई दी।