भाजपा ने मनाया विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस, विभाजन की काली स्मृतियों पर डाला प्रकाश,कहा विभाजन की पीड़ा पीढ़ियों तक सालती रहेगी

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत – भाजपा द्वारा आयोजित विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के अवसर‌ पर‌ यहां ‌शिव मंदिर सभागार में विभाजन की स्याह स्मृतियों पर प्रकाश डाला गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता भाजपा नैनीताल के पू्र्व जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट ने कहा कि विभाजन की पीड़ा पीढ़ियों को सालती रहेगी। अंग्रेज जिस कार्य को नहीं कर पाए उसे तत्कालीन नेताओं के कुत्सित स्वार्थ ने कर दिया और देश की धरती तकलीफों की चीत्कार और रक्तरंजित होने के बाद दो टुकड़ों में विभाजित हो गयी।

यह भी पढ़ें 👉  कविवर सुमित्रानंदन पंत की 124वीं जयंती उनके पैतृक गांव में समारोह पूर्वक मनाई गई, काव्य गोष्ठी आयोजित, साहित्यकार हुए सम्मानित

कार्यक्रम में वक्ताओं ने विभाजन की स्मृतियों को टटोलते हुए कहा कि एक तरफ देश को गुलामी की जंजीरों से मुक्ति मिल रही थी तो दूसरी तरफ इसकी कीमत देश के विभाजन के रूप में मिल रही थी। विभाजन के परिणामस्वरूप लाखों लोग बेघर हो गए। उन्हें रातों-रात पलायन के लिए मजबूर होना पड़ा। कई लोग तो ऐसे भी रहे, जिन्हें आजादी की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ी। कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष लीला बिष्ट और संचालन जिला महामंत्री विनोद भट्ट ने किया। कार्यक्रम को दीप भगत,दीप पांडेय,सुधीर चौधरी आदि ने अपने विचार रखे।इससे पूर्व मुख्य वक्ता प्रदीप बिष्ट और जिलाध्यक्ष लीला बिष्ट का पुष्प गुच्छ से स्वागत किया गया। कार्यक्रम के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने नगर में मौन जुलूस निकाला।

यह भी पढ़ें 👉  बीर शिवा स्कूल चौखुटिया में पुलिस ने विद्यार्थियों को किया साइबर क्राइम के प्रति जागरूक

कार्यक्रम में रानीखेत मंडल अध्यक्ष मनीष चौधरी,महामंत्री उमेश पंत,दर्शन बिष्ट, ताडी़खेत मंडल अध्यक्ष मुकेश पांडे,युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष पावस जोशी नगर मंडल महिला मोर्चा अध्यक्ष रीता पांडे, जिला उपाध्यक्ष विमल भट्ट,भावना पालीवाल, सुनीता डाबर,माया बिष्ट, उमा रावत, मीना वर्मा, जिला पंचायत सदस्य धन सिंह रावत, मीडिया प्रभारी रामेश्वर गोयल, हर्षवर्धन पंत, नीरज तिवारी,गिरीश भगत,तरुण जोशी, रोहित शर्मा,विजय जीना सहित अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत नगर के सौंदर्यीकरण के लिए व्यापार मंडल‌ चयनित स्थानों पर सेल्फी पॉइंट बनाएगा, छावनी परिषद सीईओ से मांगी अनापत्ति