दिल्ली जा रही उत्तराखंड रोडवेज का बस चालक स्टेयरिंग पर हुआ ‘बे-होश’ यात्रियों के उड़े होश, और फिर तभी…।

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी– कल्पना कीजिए आप ऐसी बस में सफर कर रहे हैं जो हाई-वे पर‌ सौ की स्पीड में सरपट दौड़ रही हो और अचानक बस का चालक होश खो दे और बस अनियंत्रित हो जाए तो आपकी हालात‌ क्या होगी। ऐसी ही हालात से गुजरे वे 55 से अधिक यात्री जो हल्द्वानी से दिल्ली के लिए सवार हुए थे लेकिन बस रवाना होने के थोड़ी देर बाद बस चालक स्टेयरिंग पर बेहोश हो गया और फिर बस में सवार एक यात्री देवदूत के रुप में नमूदार हुआ।

सोमवार कोहल्द्वानी से दिल्ली जा रही रोडवेज बस का चालक संदिग्ध हालात में बेहोश हो गया। इससे बस अनियंत्रित होकर टांडा जंगल रोड पर 100 की स्पीड में दौड़ने लगी। बस सवार 55 से अधिक यात्रियों में चीख-पुकार करने लगे। गनीमत रही कि बस में सीआइएसएफ के असिस्टेंट कमांडेंट भी सवार थे। जिन्होंने सतर्कता बरतते हुए तत्काल चालक को स्टेयरिंग से हटाया और बस को सड़क किनारे लगाकर ब्रेक मार कर रोक दिया। जिसके बाद बस में सवार लोगों ने राहत की सांस ली। यात्रियों का आरोप है कि बस चालक और कंडक्टर दोनों नशे में थे। पुलिस ने चालक पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही बस को भी कब्जे में ले लिया है। उत्तराखंड परिवहन निगम UTC की बस यूके-04-पीए-1928 में सवार यात्रियों के मुताबिक सोमवार दोपहर बस हल्द्वानी रोडवेज स्टेशन से दिल्ली के लिए निकली थी। 55 सीटर बस में 55 से अधिक सवारी थी।

यह भी पढ़ें 👉  छावनी परिषद से मुक्ति के लिए 341वें दिन भी धरनारत रहे नागरिक, गांधी पार्क में रही नारेबाजी की गूंज

हल्द्वानी में ही बस चालक ने एक दुकान के पास बस रोकी और कुछ सामान लिया। जिसके बाद हल्द्वानी से बस रुद्रपुर की ओर आ गई। टांडा जंगल स्थित नैनीताल रोड पर अचानक बस अनियंत्रित हो गई और 100 की स्पीड से सड़क पर दौड़ने लगी। साथ ही बस का चालक भी स्टेयरिंग पर बेहोश हो गया। इससे बस टांडा जंगल नैनीताल रोड पर अनियंत्रित हो गई। चालक के स्टेयरिंग पर लेट जाने और तेज रफ्तार अनियंत्रित बस से उसमें सवार यात्रियों के होश उड़ गए। बस में चीख पुकार मचनी शुरू हो गई। यह देख बस में सवार असिस्टेंट कमांडेंट सीआइएसएफ सोनू शर्मा अपनी सीट से उठे और चालक की सीट तक पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कंडक्टर और अन्य यात्रियों की मदद से पहले चालक को सीट से हटाया। इसके बाद असिस्टेंट कमांडेंट से खुद चालक की सीट संभाली और बस में नियंत्रण करते हुए उसे सड़क किनारे रोक दी।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत में महिला कांग्रेस का नारी न्याय सम्मेलन संपन्न,अब कांग्रेस गांव-गांव नारी न्याय यात्रा निकाल महिलाओं को करेगी जागरूक

जिसके बाद डरे सहमे यात्री एक के बाद एक बस से उतर आए। बाद में सूचना पर उत्तराखंड रोडवेज के अधिकारी और कर्मचारियों के साथ ही पुलिस भी पहुंच गई। लोगों ने चालक और कंडक्टर का मेडिकल कराने की मांग की। जिस पर पंतनगर थाना पुलिस ने यात्रियों को कार्रवाई का आश्वासन दिया। जिसके बाद मौके पर पहुंची रोडवेज की दूसरी बस से यात्री दिल्ली के लिए रवाना हो गए। सीआइएसएफ के असिस्टेंट कमांडेंट ने बस को संजय वन के पास सड़क किनारे पार्क किया। जिसके बाद बस के कंडक्टर ने मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए दूसरी बस या चालक की व्यवस्था किए जाने के लिए संपर्क किया। करीब एक घंटे तक बस में सवार यात्री संजय वन के पास खड़े रहे।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत में महिला कांग्रेस का नारी न्याय सम्मेलन संपन्न,अब कांग्रेस गांव-गांव नारी न्याय यात्रा निकाल महिलाओं को करेगी जागरूक

उनका कहना था कि कई बार काल करने के बाद भी न तो रोडवेज से कोई आया और न ही पुलिस ही पहुंची। टांडा जंगल हाईवे पर हुई इस घटना के बाद यात्री एक घंटे से अधिक समय तक सड़क पर ही मदद की आस में खड़े रहे। इस दौरान मामला एसएसपी डा. मंजूनाथ टीसी के संज्ञान में आया। उन्होंने पंतनगर थाना पुलिस को मौके पर पहुंचकर कार्रवाई के निर्देश दिए थे। जिस पर पंतनगर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और यात्रियों से जानकारी ली। साथ ही यात्रियों को दूसरी बस में बैठाने के बाद पुलिस ने बस को कब्जे में लिया और चालक को मेडिकल के लिए अस्पताल ले गए।