केंद्रीय विद्यालय रानीखेत में 60 साल में पहली बार होने जा रहा है पुरातन छात्र सम्मेलन,1960 से 2010 तक अध्ययनरत रहे छात्र लेंगे भाग

ख़बर शेयर करें -

रानीखेतः केंद्रीय विद्यालय के 60 वर्षों के लम्बे इतिहास में पहली बार आगामी 23 अप्रैल को पुरातन छात्रों का सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है।जिसमें 1960 से 2010 तक विद्यालय में पढ़ चुके छात्र शिरकत करेंगे।सम्मेलन में करीब सौ छात्रों और 20 प्राचार्यों के आने की उम्मीद है।
आपको बता दें कि केंद्रीय विद्यालय रानीखेत शिक्षा के क्षेत्र में एक अग्रणी संस्था के रूप में वर्ष 1962 से अपनी सेवाएं दे रहा है। पहले रेजिमेंटल स्कूल फिर सेंट्रल स्कूल और अब केंद्रीय विद्यालय के रूप में निरंतर यह संस्था देश के नौनिहालों का भविष्य बना रही है। इस संस्था के पुरातन छात्र -छात्राएं आज देश के शीर्षस्थ प्रशासनिक पदों पर देश के कोने कोने में ही नहीं विदेशों में भी सेवारत हैं।
पुरातन छात्र किसी भी विद्यालय की सम्मानित निधि होते हैं उनके साथ इसी लगाव को बनाए रखने के
लिए गत 60 वर्षोंं के लंबे इतिहास में दिनांक 23 अप्रैल 2022 को पुरातन छात्र सम्मेलन का आयोजन
किया जाएगा। इस सम्मेलन में वर्ष 1962 से वर्ष 2010 तक के चयनित छात्र -छात्राएं हमसे जुड़ कर
विद्यालय देश भूमि एवं मातृ भूमि के प्रति अपना आभार व्यक्त करेंगे और अपनी पुरानी यादों को ताजा
करेंगे जिनके साथ आज देश की सेवा कर रहे हैं। इस कार्यक्रम में पुराने प्राचार्य एवं शिक्षकों को भी
आमंत्रित किया गया है जिन्होंने अपने छात्रों के उत्थान में भरपूर सहयोग दिया।
इस कार्यक्रम में लगभग 100 पुरातन छात्र और 20 पुराने शिक्षक एवं प्राचार्य के आने की संभावना है।
वर्ष 1962 के बैच के तीन पुरातन छात्र इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि होंगे। जिनमें से श्री अगस्त लाल
साह रानीखेत की जानी मानी हस्ती हैं जिन्होंने हॉकी के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं और
आज भी वे हॉकी के क्षेत्र में नए और युवा प्रतिभाओं की तलाश और निखारने का कार्य कर रहे हैं।
पुरातन छात्र सम्मेलन की तैयारियां विद्यालय परिवार बड़ी तन्मयता से कर रहा है। विद्यालय के प्राचार्य
श्री सुनील कुमार जोशी ने इसकी सूचना देते हुए इसे एक सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक उत्सव की संज्ञा दी
है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.