बहन के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर रानीखेत के नाबालिग किशोर की चाकू घोंपकर हत्या

ख़बर शेयर करें -

बहन से छेड़छाड़ का विरोध करने पर रानीखेत के एक किशोर की दिल्ली में शोहदों ने‌ बेरहमी से हत्या कर दी। घटना मध्य दिल्ली के पटेल नगर इलाके की है।

जानकारी अनुसार 17 साल के नाबालिग पर तीन लड़के हमला कर रहे थे। उस वक़्त कुछ लोग भी इसे देख रहे थे। बाद में किशोर ने तड़प तड़प कर दम तोड़ दिया। जब पुलिस मौके पर पहुँच घायल किशोर को सरदार पटेल अस्पताल ले जाया गया। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। पुलिस ने किशोर के पिता के बयान पर हत्या का मामला दर्ज कर दो नाबालिग लड़कों को दबोच लिया है।

यह भी पढ़ें 👉  बाबा के वेश में अवैध चरस की तस्करी कर रहे दो व्यक्तियों को पुलिस ने कैंची के समीप एक किलो चरस के साथ किया गिरफ्तार

मूलरूप से गांव मौला रानीखेत (अल्मोड़ा) का रहने वाला नाबालिग परिवार के साथ कुमाऊ गली, बलजीत नगर में रहता था। परिवार में माता-पिता के अलावा एक 15 साल की छोटी बहन है। नाबालिग के पिता शादीपुर स्थित एक फैक्टरी में काम करते हैं जबकि उसकी मां घर के पास ही मोबाइल फोन के चार्जर बनाने वाली फैक्टरी में काम करती है। नाबालिग ने इसी साल 12वीं कक्षा पास करने के बाद पूसा इंस्टीट्यूट में आईटीआई में दाखिला लिया था। इसके साथ ही वह घर के पास एक इंस्टीट्यूट में कंप्यूटर कोर्स करने के अलावा इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स भी कर रहा था। शाम को उसकी क्लास होती थी।

यह भी पढ़ें 👉  गुलाब घाटी में पिकअप वाहन अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरा,एक की मौत,एक घायल

रोजाना करीब 9.00 बजे वह वापस लौटता था। जब वह क्लास के बाद इंस्टीट्यूट से घर जाने के लिए निकाला तो घर से 50 मीटर पहले तीन लड़कों ने उसे घेर लिया। कहासुनी के बाद दो लड़कों ने चाकू निकालकर उसके पेट, कमर, गर्दन व शरीर के बाकी हिस्सों पर वार कर दिए। वहीं नाबालिग किशोर की बहन 10वीं कक्षा की पढ़ाई कर रही है। बताया जाता है कि किशोर की बहन से तीन लड़के छेड़ाखानी कर रहे थे। किशोर ने इसका विरोध किया। उन लड़कों ने दिवाली के देख लेने की धमकी दी थी।

यह भी पढ़ें 👉  स्वर्गपुरी पांडवखोली आश्रम में सीज़न का पहला हिमपात, पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश, हिमपात के साथ कडा़के की ठंड

नाबालिग के साथ हुई पूरी वारदात गली में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। आरोपी बेरहमी से उस पर चाकू से हमला कर रहे हैं, लेकिन गली से गुजर रहे लोग संवेदनहीन बने रहे,कोई बचाव को नहीं आया न ही हमलावरों को पकड़ने की कोशिश की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *