उत्तराखंड गवर्नमेंट पैशनर्स संगठन ने राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण के इश्तिहार को उच्च न्यायालय के आदेश का उल्लंघन बताया

ख़बर शेयर करें -

भिकियासैंण: उत्तराखंड गवर्नमेंट पैशनर्स संगठन के प्रदेश अध्यक्ष तुला सिंह तड़ियाल ने कहा है कि उत्तराखंड राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण ने 25 अगस्त को एक इश्तिहार जारी कर पैंशनर्स से एक माह के अंदर राज्य सरकार स्वास्थ्य योजना का लाभ न लिए जाने का विकल्प देने को कहा है। उन्होंने अपने इश्तिहार में यह भी उल्लेख किया है कि, जो पैंशनर्स ‘न ‘ में विकल्प नही देंगे उन्हें योजना में सम्मिलित मानते हुए उनकी पैंशन से अंशदान की एकमुश्त कटौती 01 जनवरी 2022 से की जाएगी। श्री तड़ियाल ने कहा कि, प्राधिकरण का यह इश्तिहार मा0 उच्च न्यायालय के आदेश का स्पष्ट उलंघन है।

उन्होंने कहा 15 दिसंबर 2021को एक जनहित याचिका में तथा 21 दिसंबर 2021 को एक अन्य याचिका में पैंशन से जबरन कटौती को माननीय उच्च न्यायालय ने असंवैधानिक माना है माननीय न्यायालय द्वारा अपने दोनों आदेशों मेंं पैंशन से हो रही कटौती पर स्थगन आदेश पारित किया है साथ ही 31 दिसंबर 2020 के शासनादेश पर भी रोक लगा दी है जिसके द्वारा पैंशन से कटौती की जा रही थी। ऐसे में जब तक मा0 न्यायालय का कोई निर्णय नहीं आ जाता प्राधिकरण को कटौती करने का कोई अधिकार नहीं है। श्री तड़ियाल ने कहा कि, मा० उच्च न्यायालय के आदेश के बाद पैंशनर्स से जिस विकल्प पत्र को देने के लिए कहा गया है उसमें विकल्प जैसी कोई चीज है ही नहीं । वह केवल पैंशनर्स को जबरन राज्य स्वास्थ्य योजना में सम्मिलित कराने का पत्र है। उन्होंने आगे कहा माननीय उच्च न्यायालय के आदेश के बाद दिसंबर 2021से पैंशन से कटौती बन्द है जिसके कारण प्राधिकरण का तवा ठंडा है भारी भरकम स्टाफ को वेतन के लाले पड़े हुए हैं 4 करोड़ से भी अधिक रुपए का इंतज़ाम प्राधिकरण के कार्यालय के किराए के लिए करना मुश्किल हो रहा है। मौजूदा इश्तिहार इसी बौखलाहट का प्रतीक है उन्होंने कहा लाखों रुपए इन इश्तिहारो पर खर्च किए जा चुके हैं जब 25 अगस्त को जारी इश्तिहार में एक महीने का समय दिया गया था तब फिर 20 सितंबर को पुनः इश्तिहार निकालने की क्या जरूरत पड़ गई थी। पैंशनर्स को धोखे से योजना में सम्मिलित कराने के सारे प्रयत्न किए जा चुके हैं। उन्होंने आगे कहा, प्राधिकरण के अस्तित्व में आने से पूर्व कोई होमवर्क नहीं किया गया अभी तक एक दर्जन से भी अधिक बार शासनादेशों में संशोधन हो चुके हैं। 06 दिसंबर 2018 के शासनादेश में सेवानिवृत्त मुख्य सचिव श्री डी के कोटिया को अगले पांच सालों के लिए प्राधिकरण का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था परन्तु जब माननीय स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर पैशनर्स परिषद के पदाधिकारी श्री कोटिया से मिलने गए तो उन्होंने प्राधिकरण का अध्यक्ष होने से इंकार कर दिया बाद में उन्होंने अनौपचारिक बातचीत जरुर की इस प्रकार यह योजना राम भरोसे चल रही है। राज्य के भ्रष्ट नौकरशाहों को इस योजना की बागडोर सौंपी गई है वे पैंशनर्स से उगाही धनराशि को मनमाने ढंग से खर्च कर रहे हैं इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्राधिकरण की पहली वर्षगांठ पर 60 लाख रुपए खर्च किए गए लगभग 3 करोड़ रुपए प्रचार प्रसार पर फूंक दिए कटौती बन्द होने से इनके हाथ बंध चुके हैं। श्री तड़ियाल ने आरोप लगाया है कि, पैंशनर्स को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के नाम पर प्राधिकरण ब्लैक होल साबित हो रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  कमाल.. शिक्षिका ने अंतर्राष्ट्रीय तो स्कूल के बच्चों ने राज्य स्तरीय खेल में जीते गोल्ड व सिल्वर मेडल, बधाई दीजिए ताड़ीखेत की शिक्षिका यशोदा कांडपाल को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *