‘म्यर पहाड़’ ने दिया उत्तराखण्ड की संस्थाओं, समितियों व विशिष्ट जनों को ‘कोरोना योद्धा सम्मान 2021’

ख़बर शेयर करें -

सी एम पपनैं

नई दिल्ली। कोरोना विषाणु संक्रमण काल में असहाय, लाचार और जरूरत मंद लोगों की मदद के लिए, अपनी जान की परवाह किए बिना, दिल्ली एनसीआर मे, निरंतर प्रतिबद्ध रहे, उत्तराखंड के समाज सेवियों, सामाजिक संस्थाओं व समितियों से जुडे प्रबुद्ध जनो को, दिल्ली प्रवास मे 2016 मे स्थापित प्रवासी सांस्कृतिक संस्था, ‘म्यर पहाड़ उत्तराखण्ड सांस्कृतिक समिति’ द्वारा, कोरोना योद्धा सम्मान समारोह 2021′ प्रदान कर सम्मानित किया गया। उक्त भव्य आयोजन, 5 दिसम्बर, वेस्ट विनोद नगर, दुर्गा माता मंदिर में आयोजित किया गया। सम्मान के तहत आयोजकों द्वारा, कोरोना योद्धा प्रशस्ति पत्र और पुष्प गुच्छ भेंट किया गया।

सम्मान समारोह का श्रीगणेश, सम्मानित होने वाली संस्थाओ व आयोजक संस्था के शीर्ष पदाधिकारियो द्वारा, दीप प्रज्जवलित कर व आयोजक संस्था के बाल कलाकारों द्वारा, प्रस्तुत वन्दना के साथ किया गया।

आयोजक संस्था पदाधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया, सम्मान समारोह में उत्तराखंड की 70 संस्थाओं और समितियों तथा विशिष्ट जनों को कोरोना विषाणु संक्रमण काल में उनके द्वारा निरंतर पीड़ितों के लिए, किए गए परोपकारी कार्यो का मूल्यांकन कर, ‘कोरोना योद्धा सम्मान 2021’ से सम्मानित किया गया। उक्त संस्थाओं और लोगों द्वारा, सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशो का पालन कर, निराश व हताश लोगों के मध्य, अपनी जान की परवाह किए बगैर, जागरूकता अभियान चलाकर, महामारी से बचाव के उपाय जनमानस को बताने, प्रेरित करने व जनमानस का हौंसला बढ़ाने के लिए किया गया। विषाणु संक्रमण काल की, कभी न भूली जाने वाली त्रासदी में, जरूरतमंदों को भोजन, दवाएं, मास्क, सेनेटाइजर, आने-जाने के साधन जुटाने, स्थानीय स्तर पर, अपने-अपने क्षेत्रों में सेनेटाइजर का छिड़काव के साथ -साथ, जरूरतमंदों के लिए भोजन, राशन किट, मास्क, सेनिटाइजर, दवाइयों इत्यादि का वितरण किया गया। महामारी का दंश झेल रहे गंभीर पीड़ितों को अस्पताल में भर्ती कराने से लेकर आक्सीन सिलैंड्रो को उपलब्ध कराने जैसे महत्वपूर्ण कार्य कर परोपकारी कार्यो का निर्वाह किया गया था।

आयोजकों द्वारा, अवगत कराया गया, कोरोना विषाणु संक्रमण काल में उत्तराखंड की दिल्ली एनसीआर मे स्थापित जिन प्रवासी संस्थाओ व लोगों द्वारा, बढ़-चढ़ कर जन की मदद की गई उनमे, जागृति लीला मैमोरियल फाउंडेशन, देवभूमि उत्तराखड एकता मंच, कल्याणी सामाजिक संस्था, उत्तरांचल भ्रात्रि सेवा संस्थान, पर्वतीय कला केन्द्र दिल्ली, अल्मोड़ा ग्राम कमेटी,
यूके टीम इंडिया, कुमाऊं जनमंडल समिति, गढ़ कुमाऊं युवा समिति, गढ़वाल हितैषिणी सभा, भयात एनजीओ, शिक्षा से शिखर तक, उत्तराखंड आवाज मंच, उत्तरांचल नवयुवक धार्मिक रामलीला कमेटी, कलश कलाश्री, बिजनेस उत्तरायणी, कुमाऊं सांस्कृतिक कला मंच, उत्तराखण्ड जन संरक्षण समूह, शांभवी समाज सेवा समिति, सांस्कृतिक मंडल कुमाऊं स्कवायर, आरडब्ल्यू कुमाऊं, आरडब्लूए स्कवायर वेस्ट विनोद नगर, पर्वतीय लोक कला मंच, यूथ4यूके, उत्तराखंड जन जागृति संघ, गढ़वाल धार्मिक एवं सांस्कृतिक मंडल, कुमाऊं सांस्कृतिक समिति, देवभूमि संस्कृत धार्मिक समिति, उत्तराखंड एकता संगठन, देवभूमि उत्तराखंड सांस्कृतिक मंडल, सार्थक प्रयास, भुम्याल विकास मंच, उत्तरांचल सांस्कृतिक भ्रातृ समिति, मानव अधिकार एवं अपराध निमंत्रण संगठन इत्यादि के साथ-साथ, पीड़ित जनमानस की, व्यक्तिगत तौर पर मदद करने के लिए सम्मानित किए गए प्रमुख समाजसेवियो में, वी एन शर्मा, रणजीत गड़ाकोटी, प्रेमा धोनी, जगतसिंह बिष्ट, सुरेद्र हालसी, अनिल पानू, मोहनसिंह रावत, पी एन शर्मा, दिनेश दीवान नयाल, अजय रावत, संजय दरमोडा, बृजमोहन उप्रेती, विनोद बछेती, कुलदीप भंडारी, रवि नेगी, गीता रावत, चंद्र मोहन पपनैं, हरेंद्र डोलिया, चंदन भैसोड़ा, अर्जुन राणा, उदय ममगई राठी, अनिल पंत, बी एन ढौडियाल, किशोर रावत, गिरीश कबडवाल, नारायण पपोला, जीएस अवाना, डाॅ राजेश्वरी कापडी, सतीश कुमार, कश्मीरी लाल, शिवराज सिंह बिष्ट, लक्ष्य पांडे, संजय न्योली, दया सागर, पंडित मोहन लाल लसियाल मुख्य थे।

सम्मान समारोह के इस अवसर पर आयोजक संस्था से जुडे बच्चों की सांस्कृतिक टोलियों द्वारा, लोकनृत्यो व गीतों के मनमोहक कार्यक्रम भी मंचित किए गए। आयोजक संस्था ‘म्यर पहाड़ उत्तराखण्ड सांस्कृतिक समिति’ अध्यक्ष कुन्दन भैसोड़ा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष गणेश गैड़ा, उपाध्यक्ष क्रमश: सुरेश बिनोली व रमेश अधिकारी, महासचिव हरीश अधिकारी तथा संस्था अन्य पदाधिकारियों मे राजू उल्साई, योगेश जोशी, रमेश बिष्ट, सचिन सोलंकी तथा विशेष अतिथि चारु तिवारी द्वारा, अपने संबोधन मे व्यक्त किया गया, सम्मान के असली अधिकारियो को सम्मानित करते आज ‘म्यर पहाड़ उत्तराखण्ड सांस्कृतिक समिति’ पदाधिकारियो व समिति से जुडे सभी सदस्यों को अपार गर्वानुभूति हो रही है। समिति उत्तराखंड की उन संस्थाओ, समितियों व प्रबुद्ध लोगों का सम्मान कर रही है, जो सम्मान के असली हकदार हैं।

समिति पदाधिकारियो द्वारा व्यक्त किया गया, समिति का विचार था कि समाज के लिए समर्पित इन लोगों को एक मंच पर सम्मानित किया जाए, जो आज पूर्ण हुआ है। सम्मानित संस्थाओं और लोगों द्वारा, कोरोना महामारी में जिस साहस और धैर्य का परिचय देते हुए, सामना किया गया। जरूरतमंदों के लिए काम किया गया। सुविधाऐ मुहैया करवाई गई। वह किसी से छुपा नहीं है। अवगत कराया गया, आयोजक समिति पदाधिकारियों द्वारा भी समिति अध्यक्ष कुन्दन भैसोड़ा के नेतृत्व मे, बढ़-चढ़, आगे आकर, असहाय और जरूरतमंद लोगों के लिए काम किया गया था। समिति द्वारा जरूरतमंदों के लिए भोजन की व्यवस्था कराने के साथ ही, दवा-पानी की भी व्यवस्था करवाई गई। वह वक्त बहुत खराब था। अधिकतर लोग कोरोना महामारी के चपेट थे, कई लोग बेरोजगार हो चुके थे। बीमार लोगों का इलाज नहीं हो पा रहा था। गरीबों के पास खाने का सामान तक नहीं था। किसी के पास मकान का किराया देने के लिए तक पैसे नहीं थे, तो किसी के पास, घर जाने के लिए पैसे नहीं थे। सामाजिक संस्थाओं ने आगे आकर, लोगों की पीड़ा देखी-सुनी। हर संभव पीड़ित व जरूरतमंद लोगों की मदद की। हताश-निराश लोगों को भरोसा दिलाया। उनकी हर तरह की समस्या का समाधान किया। आज उक्त सभी संस्थाएं उस सम्मान की हकदार हैं, जिन्होंने दिन-रात एक करके अपनी जान की परवाह किए बगैर, लोगों की खैर-खबर ली, भुक्तभोगी पीड़ितों व परिवारों को नया जीवन दिया।

अायोजको द्वारा अवगत कराया गया, ‘म्यर पहाड़ उत्तराखण्ड सांस्कृतिक समिति’ का गठन
छह वर्ष पूर्व बहुउद्देश्यो के तहत
किया गया था। दिल्ली एनसीआर मे प्रवासरत उत्तराखंड के प्रवासी बंधुओ को सांस्कृतिक कार्यक्रमों के मंचन के माध्यम से जोड़ने की पहल। उत्तराखण्ड की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को, दिल्ली एनसीआर में सजोए और बचाया रखने व समृद्ध करने की पहल। पारंपरिक तीज-त्यौहारो को मनाने की पहल। होली मिलन, दीपावली, हरेला समेत सभी त्यौहारों को प्रवासी जनो के मध्य, सामूहिक तौर पर मनाने की पहल। प्रवास मे निवासरत, वर्तमान नई पीढ़ी को उत्तराखंड की समृद्ध विरासत को संभालने के लिए तैयार करने इत्यादि की पहल, गठित समिति के मुख्य उद्देश्यो मे निहित रहे हैं।

आयोजकों द्वारा अवगत कराया गया, समिति के उद्देश्यो के तहत समिति द्वारा, कुमाऊंनी और गढ़वाली बोली-भाषा में कक्षाओं का संचालन भी किया गया।
बोली-भाषा को सीखने के लिए ऑनलाइन क्लासों का संचालन किया गया, जो क्रम निरंतर जारी है। उक्त कक्षाओ के संचालन से, बोली-भाषा के प्रचार-प्रसार मे, प्रवासी जन समाजों के मध्य वृद्धि हुई है। बोली-भाषा का संरक्षण व संवर्धन हुआ है।

आयोजकों द्वारा अवगत कराया गया, वर्ष 2017 में समिति द्वारा, दिल्ली प्रवास मे, उत्तराखण्ड की सु-विख्यात ऐपड़ कला, कार्यशाला का आयोजन भी किया गया। ऐपड़ कला की बारीकियों को उत्साही लोगों को सिखाया गया। समिति द्वारा समय-समय पर वृक्षारोपण, स्वच्छता अभियान भी चलाऐ जाते रहे हैं।

करीब तीन घन्टे तक चले, सम्मान समारोह का प्रभावशाली मंच संचालन, उत्तराखंड के सु-प्रसिद्ध रंगकर्मी व उदघोषक हेम पंत द्वारा किया गया।
————–
[email protected]
9871757316


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *