चौबटिया गार्डन के निरीक्षण पर आए गणेश जोशी बोले-पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए चौबटिया सेब बागान को हार्टी टूरिज्म के रूप में विकसित किया जायेगा

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत -चौबटिया सेब बागान को हार्टी टूरिज्म के रूप में विकसित किया जायेगा जिससे यहॉ पर्यटन की सम्भावनाओं को और अधिक बढ़ावा जा सकेगा। यह बात आज कृषि एवं कृषक कल्याण, सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने अपने रानीखेत, चौबटिया स्थित सेब बागान के निरीक्षण के दौरान कही। उन्होंने कहा कि चौबटिया गार्डन का अपना एक अलग इतिहास है जिसका अपना एक रिसर्च सेन्टर भी हुआ करता है यहीं से लोग शोध करने अन्य प्रदेशों ने इसको अपनाया और उद्यान क्षेत्र में आगे बढ़ सके।


उन्होंने कहा कि इस उद्यान को किस तरह से विकसित किया जा सके इसके लिये अधिकारियों के साथ वार्ता की जायेगी। इस दौरान मंत्री ने बागान को विकसित किये जाने हेतु कार्य योजना के बारे में विस्तापूर्वक जानकारी ली। उन्होंने बागान में लगाये जा रहे नई प्रजाति के पेड़ जैसे सेब, पुलम, आडू सहित अन्य पौधों की जानकारी ली। उन्होंने निर्देश दिये कि इस क्षेत्र को पर्यटन के रूप में और अधिक विकसित किया जाय ताकि ज्यादा से ज्यादा पर्यटक यहां आ सके और  जिससे उद्यान की आय से बढ़ोत्तरी हो सके।
इस दौरान मंत्री ने बागान के निरीक्षण के दौरान रोपित की गयी नई प्रजातियों के पौधों को देखा और उनके फलोत्पादन के बारे में जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने ग्लैन्डल्यूमेगा-इण्टर स्टॉक जिन्वा-11 प्रजाति के सेब के पौधे का रोपण किया। मा0 मंत्री ने बन्द पड़े रिसर्च सेन्टर को पुनः स्थापित करने के सम्बन्ध में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि पर्यटकों के लिये 08 हॅाट यहॉ पर प्रस्तावित है उन्हें जल्द ही इन हॅटो को बनाया जायेगा ताकि आने वाले पर्यटक यहॉ पर आ कर रूक सके। इस दौरान स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने मा0 मंत्री को अवगत कराया कि सेना की वजह यहॉ पर पर्यअकों को आने व जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जिसके लिये यहॉ आने के लिये लोगों द्वारा एक लिंक मार्ग का सुझाव दिया है। जिस पर उन्होंने कहा कि जल्द ही सम्बन्धित अधिकारियों से इस सम्बन्ध में वार्ता की जायेगी।
इस दौरान उद्यान अधीक्षक डॉ0 ब्रजेश कुमार गुप्ता द्वारा उद्यान मंत्री को जानकारी दी कि खुबानी की दो प्रजातियां बोलेरो और रुबेली के 72 पौधे रोपित किए गए हैं तथा पौधालय में भी इसके पौधे तैयार किए जा रहे हैं उद्यान में सेब की गेलेंट ल्यूमागा, रेड लव, गाला नोर्गे, कैंडी फ्यूजी, लेडी इन रेड सहित सेब की नवीनतम प्रजाति के पौधे रोपित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि खुबानी की यह प्रजाति उत्तराखण्ड में पहली बार लगाई जा रही हैं। इनकी खासियत है कि ये है कि रंग पूर्ण रूप से लाल होता है। साथ ही उद्यान में चेरी, खुबानी, प्लम, नाशपाती, अखरोट के अलग- ब्लॉक बनाए गए हैं उन्होंने उद्यान में हो रहे विकास कार्यों को लेकर प्रसन्नता जताई और एक्सीलेंस सेंटर के बारे में जानकारी ली। इस दौरान उद्यान मंत्री ने हार्टी टूरिज्म के बारे में महानिदेशक रणवीर सिंह चौहान से फोन पर वार्ता की।
इस दौरान संयुक्त मजिस्टेट रानीखेत जय किशन, अपर निदेशक आर0के0 सिंह, भाजपा नगर अध्यक्ष मनीष चौधरी, जिला अध्यक्ष भाजपा लीला बिष्ट, पूर्व उपाध्यक्ष कैण्ट बोर्ड मोहन नेगी, दीप भगत, संजय पंत, प्रदीप बिष्ट,दर्शन बिष्ट, उमेश पंत, जिला विकास अधिकारी एस0के0पंत, मुख्य कृषि अधिकारी डी0 कुमार,मुख्य उद्यान अधिकारी सतीश शर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधि व अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें 👉  चुनाव ड्यूटी से लौट रहा टीचर सड़क हादसे का शिकार, अज्ञात वाहन की टक्कर से मौत