नगर पालिका में शामिल करने की मांग पर‌ गांधी चौक पर चौथे दिन भी धरना-प्रदर्शन, सेना द्वारा चौबटिया -झूलादेवी रोड बन्द करने के‌ विरूद्ध ज्वाइंट मजिस्ट्रेट को ज्ञापन

ख़बर शेयर करें -


रानीखेत: यहां गांधी चौक में सिविल एरिया को रानीखेत छावनी से आज़ाद कर नगर पालिका में समायोजित करने की मांग पर रानीखेत विकास संघर्ष समिति का‌ धरना -प्रदर्शन चौथे दिवस भी जारी रहा। धरना स्थल पर नागरिकों ने‌ रानीखेत के सिविल एरिया को रानीखेत-चिलियानौला नगरपालिका में समाविष्ट करने की समवेत स्वर में मांग उठाई।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत किताब कौतिक में साहित्य व कला जगत की नामचीन हस्तियों ने शामिल होने की हामी भरी, तैयारियों पर चर्चा को लेकर हुई बैठक

धरना स्थल पर वक्ताओं ने कहा कि भविष्य में आंदोलन को गति देने की आवश्यकता है जिसके लिए नागरिकों व विभिन्न संगठनों को धरना स्थल पर पहुंचकर छावनी के काले कानूनों और छावनी के बहिष्कार हेतु अपना समर्थन देना चाहिए। तय किया गया कि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम मशाल जलूस, बाजार बंदी व स्कूल कॉलेज एवं सरकारी-गैरसरकारी सभी संस्थानों की तालाबन्दी कर आंदोलन को व्यापक रूप से चलाया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत किताब कौतिक में साहित्य व कला जगत की नामचीन हस्तियों ने शामिल होने की हामी भरी, तैयारियों पर चर्चा को लेकर हुई बैठक

बाद‌ में जलूस की शक्ल में नारेबाजी करते आंदोलनकारी संयुक्त मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंचे तथा झूलादेवी – चौबटिया मोटर मार्ग को सेना द्वारा बंद किए जाने के विरोध में एक हस्ताक्षरित ज्ञापन जिलाधिकारी अल्मोड़ा को संयुक्त मजिस्ट्रेट के माध्यम से दिया। संयुक्त मजिस्ट्रेट ने झूलादेवी-चौबटिया मोटर मार्ग प्रकरण के विवाद के शीघ्र ही निराकरण का भरोसा दिलाया।

यह भी पढ़ें 👉  रानीखेत किताब कौतिक में साहित्य व कला जगत की नामचीन हस्तियों ने शामिल होने की हामी भरी, तैयारियों पर चर्चा को लेकर हुई बैठक


‌धरने में व्यापार मंडल पदाधिकारीगण, छावनी परिषद के निवर्तमान सभासद, होटल एसोसिएशन, छात्र संघ सहित राजनीतिक और गैर राजनीतिक संगठनों सहित व्यापारियों और आम जनता ने सहभागिता की।