चिकित्सालय में कल हुए हंगामें के विरोध में चिकित्सा कर्मियों और चिकित्सकों का कार्य बहिष्कार, संयुक्त मजिस्ट्रेट से मिलकर मांगी सुरक्षा,अराजक तत्वों के खिलाफ कडी़ कार्यवाही की मांग की

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत :-राजकीय चिकित्सालय में सोमवार एक महिला चिकित्सक की एक प्रसूता महिला के पति से कथित अभद्रता के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा हंगामा काटने के बाद मंगलवार को चिकित्सक व चिकित्साकर्मियों ने भी काली पट्टियां बांधकर विरोध दर्ज किया और दो घंटे का कार्य बहिष्कार किया।बाद में संयुक्त मजिस्ट्रेट को उनके कार्यालय में ज्ञापन दिया गया जिसमें चिकित्सा कर्मियों ने अपनी सुरक्षा की मांग की और अराजक तत्वों के खिलाफ कडी़ कार्रवाई की मांग की।
गत दिवस राजकीय चिकित्सालय में कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा क्षेत्र प्रमुख हीरा रावत के नेतृत्व में चिकित्सकों से बदसलूकी और हंगामा बरपाने का मामला अब तूल पकड़ रहा है।आज आक्रोशित चिकित्सकों और चिकित्सा कर्मियों ने कल की घटना के विरोध में काली पट्टियां बांध कर सुबह दो घंटे का कार्य बहिष्कार किया हालांकि आकस्मिक सेवाओं को बाधित नहीं किया गया।बाद में प्रोविंसियल मेडिकल हेल्थ सर्विस एसोसिएशन के अध्यक्ष डा.संदीप दीक्षित के नेतृत्व में चिकित्साकर्मियों ने संयुक्त मजिस्ट्रेट जय किशन को एक ज्ञापन भी दिया जिसमें कल हुई घटना पर नाराजगी जताते हुए सीएमएस डा. के. के. पांडे और वरिष्ठ महिला चिकित्सक डा. कांता किरन पांडे के साथ अभद्रता करने वाले अराजक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा गया है।डा.संदीप दीक्षित का कहना था जिस तरह चिकित्सालय परिसर में आए दिन अराजक तत्व अराजकता फैला रहे है उससे चिकित्सक व चिकित्साकर्मी स्वयं को असुरक्षित महसूस कर रहे है ऐसे में हमारी मांग है कि हमें सुरक्षा दी जाए और चिकित्सालय परिसर में शीघ्र एक पुलिस चौकी खोली जाए।
इधर बताया गया कि बुधवार को मुख्य चिकित्साधिकारी और विधायक चिकित्सालय पहुंचेंगे उसके बाद संभवतः कोई सुलह का रास्ता निकले।फिलहाल चिकित्साकर्मी आक्रोश में हैं और चिकित्सालय परिसर में उपद्रव मचाने वालों और चिकित्सकों के साथ अभद्र व अमानवीय व्यवहार करने वालों के खिलाफ कार्र्वाई की मांग पर अडे़ हैं।

यह भी पढ़ें 👉  छावनी विद्यालयों में धूमधाम से मना आजादी का जश्न, देशभक्ति व लोक संस्कृति आधारित प्रस्तुतियों ने मन मोहा
9

Leave a Reply

Your email address will not be published.