रानीखेत में भक्तिमय माहौल में विसर्जन के लिए निकला मां नंदा-सुनंदा का डोला,महिलाओं नेअक्षत फूल चढा़कर नम आंखों से किया विदा

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत :उत्तराखंडी लोक मानस में दृढ़ आस्था की प्रतीक मां नंदा-सुनंदा देवी की शोभा यात्रा आज पूरी भव्यता के साथ नगर में निकाली गई ।इससे पूर्व मंदिर परिसर में मां नंदा-सुनंदा को पूजन अनुष्ठान के साथ भोग लगाया गया।

आज मां के विसर्जन से पूर्व नगर में मां नंदा- सुनंदा की शोभा यात्रा भव्यता के साथ निकाली गई हालांकि कोविड नियमों के अनुपालन में इस बार भी स्कूली बच्चों की सांस्कृतिक प्रस्तुतियों को शोभा यात्रा में शामिल नहीं किया गया था। मां की शोभा यात्रा भजन व जयकारों के साथ जरूरी बाजार ,रोडवेज स्टेशन,सदर बाजार,गांधी चौक,सुभाष चौक ,शिवमंदिर मार्ग होते हुए पुनः नंदा परिसर जरूरी बाजार होकर विसर्जन स्थल के लिए रवाना हुई।इस दौरान स्थान-स्थान पर अपने घरों से निकल महिलाओं ने मां नंदा -सुनंदा के ऊपर अक्षत फूल चढा़ कर उन्हें विदाई दी। डोला यात्रा के बीच हल्की रिमझिम बारिश भी श्रद्धालुओं की दृढ़ आस्था को डिगा नहीं पाई।कहते हैं कि मां नंदा की जब हिमालय से विदाई हुई तो देवता भी रो पडे़ थे आज की रिमझिम फुहार इसी आस्था को मजबूत बनाती है।

यह भी पढ़ें 👉  छावनी परिषद विद्यालय के विद्यार्थियों ने पुरजोश के साथ निकाली तिरंगा रैली, माहौल हुआ देश भक्ति से सराबोर

बतादें कि कुमाऊं के कत्यूरी राजवंश की ईष्ट देवी होने के कारण मां नंदा को राज राजेश्वरी भी कहा जाता है ।यह लोकमानस में मां के प्रति दृढ़ आस्था ही है कि कुमाऊं के अन्य शहरों की भांति रानीखेत में भी मां नंदा-सुनंदा का पूजन उत्सव पिछले 131 साल से धूमधाम से मनाया जाता रहा है।अष्टमी के दिन नन्दा-सुनन्दा बहनों की विशिष्ट और अनूठी केले के पेड़ से बनी मूर्तियों को- जो कि समस्त भारत में केवल कुमाऊँ में ही बनाई जाती है, की प्राण प्रतिष्ठा की जाती है और फिर नियत दिवस पर डोले में बिठाकर उन्हें श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ नगर भर में घुमाया जाता है। अन्ततः मूर्ति को निर्धारित स्थल पर जल प्रवाह में विसर्जित कर दिया जाता है।शुक्रवार के दिन यहां स्थान-स्थान पर महिलाओं ने अक्षत फूल चढा़कर नम आंखों से मां को विदा किया।

यह भी पढ़ें 👉  पीजी कालेज रानीखेत में आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत कई प्रतियोगिताओं के साथ हुआ वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की वीरता पर‌ नाट्य मंचन

शोभा यात्रा में इस बार राजा-रानी की भूमिका में रहे यजमान जितेन्द्र रौतेला,ममता रौतेला,नंदा महोत्सव समिति के अध्यक्ष हरीश लाल साह के अलावा महिला आयोग की उपाध्यक्ष ज्योति साह मिश्रा,क्षेत्र प्रमुख हीरा रावत ,पूर्व क्षेत्र प्रमुख रचना रावत। भाजपा महिला मोर्चा प्रदेश सह प्रभारी विमला रावत, ,सामाजिक कार्यकर्ता प्रमोद नैनवाल, त्भारिभुवन शर्जमायुमो नेता शशांक रावत, किरन लाल साह ,मुकेश साह,भुवन साह,अनिल वर्मा, मोहन नेगी , कैलाश पांडे,मनीष चौधरी, दीपक पंत,अजय बबली,सोनू सिद्दकी,यतीश रौतेला,पंकज जोशी,योगेश साह,भुवन सती,ललित मोहन पांडे,विनोद कांडपाल,अमन शेख,पंकज साह,हिमांशु रावत,भाजपा अध्यक्ष राजेन्द्र जसवाल,चंदन भगत,विपिन भार्गव ,सहित बडी़ संख्या में श्रद्धालु शामिल रहे।

यह भी पढ़ें 👉  भूतपूर्व सैनिकों ने जैनोली तक निकाली तिरंगा रैली, स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाने का‌ निर्णय

Leave a Reply

Your email address will not be published.