रानीखेत पी जी कॉलेज में चार दिवसीय बौद्धिक संपदा अधिकार पर कार्यशाला जारी, विद्यार्थियों को ने इन्वेंशन करने के‌ लिए पेटेंट कराने की दी सलाह

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत – आज राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय रानीखेत में यू कास्ट देहरादून द्वारा संचालित (ऑनलाइन )चार दिवसीय बौद्धिक संपदा अधिकार पर कार्यशाला के दूसरे दिन प्रोफेसर अतुल ध्यानी गढ़वाल विश्वविद्यालय श्रीनगर के कॉमर्स विभाग के विभाग अध्यक्ष द्वारा बौद्धिक संपदा अधिकार पर एक व्याख्यान दिया गया जिसमें उन्होंने चीन यू.एस.ए.और भारत के संदर्भ में अपने व्याख्यान को तुलनात्मक रूप से बताया। और कहा कि आज के समय में शोध छात्र-छात्राओं के लिए आवश्यक है कि वह अपने नए इन्वेंशन के लिए पेटेंट कराये। जिससे उनके इन्वेंशन का एकाधिकार रहे, और दूसरे उसकी नकल न कर सके।

यह भी पढ़ें 👉  प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल‌ की जिला इकाई की बैठक में उठी व्यापारिक व क्षेत्रीय समस्याएं, व्यापारियों की एकजुटता पर बल


डॉ अभिमन्यु कुमार (शोध संयोजक एवं इस कार्यशाला के सहसंयोजक) द्वारा आज के मुख्य वक्ता प्रोफेसर अतुल ध्यानी जी का परिचय दिया गया। इस कार्यशाला के संयोजक(IQAC/IPR) डॉ प्रसून जोशी द्वारा कार्यक्रम का संचालन किया गया।
कार्यशाला के अंत में डॉ विजय बिष्ट (सह संयोजक IQAC /IPR) द्वारा आज के मुख्य वक्ता का धन्यवाद दिया।
आज की कार्यशाला में कुल 35 प्रतिभागियों ने भाग लिया।