रानीखेत में वर्षों से चली आ रही खेल स्टेडियम की मांग को पंख लगने की आस जगी, भारतीय खेल प्राधिकरण और स्थानीय प्रशासन ने मैदान का संयुक्त भौतिक निरीक्षण और पैमाइश की

ख़बर शेयर करें -

रानीखेत : छावनी नगर में लंबे समय से चली आ रही स्टेडियम निर्माण की मांग को अब पंख लगने की आस जगी है।आज रानीखेत में एनसीसी मैदान को स्टेडियम में तब्दील करने की कोशिश के क्रम में भारतीय खेल प्राधिकरण (साई), स्थानीय प्रशासन और छावनी परिषद पूर्व उपाध्यक्षों की देखरेख में एनसीसी मैदान की पैमाइश हुई।

साईं  (Sports Athority of India) के वरिष्ठ कोच सीएस नेगी, छावनी परिषद के अधिशासी अधिकारी नागेश कुमार पाण्डेय , संयुक्त मजिस्ट्रेट जयकिशन, छावनी के नामित सदस्य मोहन नेगी, पूर्व उपाध्यक्ष संजय पंत, हरीश लाल साह व कैंट के तकनीकी अनुभाग ने एन सी मैदान का भौतिक निरीक्षण किया इस दौरान मैदान की पैमाइश भी की गई।

यह भी पढ़ें 👉  स्व. जय दत्त वैला पी जी कालेज में समारोहपूर्वक मनाया गया एनसीसी दिवस, कैडेट्स ने पेश किए देश भक्ति कार्यक्रम

जिसमें मैदान की लंबाई 107.70 मीटर और चौड़ाई 75.50 मीटर नापी गई तथा पश्चिमी छोर की पहाड़ी पर जो वर्तमान में समतल नहीं है, इस भूमि पर 90 चीड़ के पेड़ पाए गए हैं। इस भूमि की माप करने पर कुल चौड़ाई 126.20 व लम्बाई 35.70 मीटर पायी गई।

भौतिक निरीक्षण के दौरान यह पाया गया कि मुख्य मैदान फुटबॉल एवं उसके भीतर 200 मीटर (6 लाइन) का एथलेटिक ट्रैक बनाया जा सकता है। साथ ही उत्तरी व पश्चिमी छोर में दर्शक दीर्घा व पेवेलियन में लगभग 200 लोगों के बैठने की व्यवस्था हो सकती है। मुख्य मैदान के पश्चिमी छोर पर लगभग 60 मीटर दीवार निर्माण जरूरी है।

यह भी पढ़ें 👉  CARE' संस्था द्वारा हिमांशु पाठक व कमल गोस्वामी को 'फोटोग्राफर ऑफ रानीखेत' सम्मान के लिए चुना गया, शीघ्र किया जाएगा सम्मान

इस क्रम में मैदान का वह भाग जो असमतल है, उस भूभाग में एक बहुउद्देशीय हॉल जिसमे ताइक्वांडो, टेबल टेनिस, बैडमिंटन, व अन्य इंडोर गेम खेले जा सकते हैं। साथ ही उक्त भूभाग में खेल सामग्री के भण्डारण हेतु भंडार गृह, खिलाड़ियों के लिए चेंजिंग रूम, टॉयलेट व बाथरूम बनाये जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  छावनियों की जनता से आपत्ति व सुझाव मांगने के बाद छावनी भूमि प्रशासन नियम में ये हुआ संशोधन,रक्षा मंत्रालय ने अधिसूचना भी जारी की

उक्त भूभाग में मैदान बहुउदेशीय हॉल के रख रखाव हेतु कमर्चारियों के लिए एक स्टाफ रूम की भी आवश्यकता महसूस होती है। मैदान में सामग्री लाने लेजाने के लिए एक सड़क बनानी आवश्यक है। इस हेतु शीघ्र ही एक विस्तृत रिपोर्ट (DPR) सिचाई विभाग के माध्यम से तैयार कर शासन को प्रेषित की जा रही है। उम्मीद है कि शीघ्र ही रानीखेत वासियो का अपने स्टेडियम का सपना साकार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *